रेप के झूठे केस में 20 साल तक रहा जेल में, रिहाई हुई तो बदल गई थी दुनिया

प्रयागराज। हमारी न्याय व्यवस्था की कमियों के चलते कई बार बेगुनाहों की जिंदगी बर्बाद हो जाती है। बुधवार को यूपी की आगरा सेन्ट्रल जेल से एक शख्स 20 साल रिहा हुआ। इलाहाबाद हाईकोर्ट द्वारा रेप केस में निर्दोष करार दिए जाने के बाद ललितपुर जिले का रहने वाला विष्णु तिवारी 16 सितंबर सन 2000 में रेप केस में गिरफ्तार किया गया था। तब से विष्णु तिवारी जेल में ही बंद था।

अब जेल से रिहा होने पर विष्णु तिवारी 43 साल का हो चुका था। 20 साल पहले गिरफ्तार होने के बाद 2003 में उसे ललितपुर की अदालत ने रेप के मामले में 10 साल और एससी/एसटी एक्ट में आजीवन कारावास की सजा सुनाई थी। कोर्ट के आदेश के मुताबिक दोनों सजाएं साथ-साथ चलनी थीं। विष्णु तिवारी पर आरोप लगा था कि उसने गांव की अनुसूचित जाति की महिला को झाड़ी में खींचकर बलात्कार किया था। पुलिस ने इस मामले में उसे गिरफ्तार कर जेल भेज दिया था।

20 साल जेल में बंद होने के आधार पर शीघ्र सुनवाई की अर्जी पर हाईकोर्ट ने देखा कि दुराचार का आरोप साबित ही नहीं हुआ। मेडिकल रिपोर्ट में जबरदस्ती के कोई साक्ष्य नहीं थे। पीड़िता पांच माह की गर्भवती थी। ऐसे कोई निशान नहीं मिले, जिससे यह कहा जाए कि जबरदस्ती की गई। घटना की रिपोर्ट भी पति व ससुर ने तीन दिन बाद लिखाई और पीड़िता ने इसे अपने बयान मे स्वीकार किया है। कोर्ट ने कहा सत्र न्यायालय ने सबूतों पर विचार किए बगैर गलत फैसला दिया।

Gyan Dairy

वहीं, जेल से बाहर आने के बाद विष्णु ने कहा कि मैं 20 साल से जेल में हूं। मेरा शरीर टूट गया है और मेरा परिवार भी। मेरा केवल एक छोटा भाई है। मेरी शादी भी नहीं हुई है। मेरे हाथों को देखो, जेल की रसोई में काम करने से फफोले पड़ गए हैं। आज जेल से बाहर आने से पहले मुझे जेल प्रशासन से 600 रुपये मिले। मेरे पास बस यही है।

 

Share