उत्तर प्रदेश: अमिताभ ठाकुर के साथ दो और आईपीएस हुए जबरन रिटायर

लखनऊ। केन्द्रीय गृह मंत्रालय की स्क्रीनिंग में अमिताभ ठाकुर सहित 3 आईपीएस अफसरों को सरकारी सेवा के लिए अनुपयुक्त पाया गया है। अमिताभ ठाकुर (आईजी रूल्स एवं मैनुअल) के अलावा राजेश कृष्ण (सेनानायक, 10वीं बटालियन, बाराबंकी) पर आज़मगढ़ में पुलिस भर्ती में घोटाले का आरोप रहा है। वहीं राकेश शंकर (डीआईजी स्थापना) पर देवरिया शेल्टर होम प्रकरण में संदिग्ध भूमिका के आरोप थे। तीनों आईपीएस पर गम्भीर आरोप थे।

17 मार्च 2021 का भारत सरकार के ग़ृह मंत्रालय ने आदेश जारी किया था कि अमिताभ ठाकुर लोकहित में सेवा में बनाए रखे जाने के उपयुक्त नहीं हैं। इस आदेश के क्रम में अब प्रदेश के गृह विभाग की तरफ से उन्हें वीआरएस देने या कहें ‘जबरन रिटायर’ करने का आदेश जारी हो गया है।

Gyan Dairy
Share