52 करोड़ में बिका विजय माल्या का किंगफिशर हाउस, जानें किसने खरीदा

नई दिल्ली। बैंको को हजारों करोड़ का चूना लगाने वाले भगोड़े कारोबारी विजय माल्या का किंगफिशर हाउस आखिरकार बिक गया है। किंगफिशर हाउस दिवालिया हो चुकी कंपनी किंगफिशर का मुख्यालय था। डेट रिकवरी ट्रिब्युनल ने किंगफिशर हाउस को हैदराबाद के निजी डेवलपर्स सैटर्न रियल्टर्स ने 52 करोड़ रुपये में बेंचा है। यह मूल्य रिजर्व प्राइस 135 करोड़ रुपए का लगभग एक तिहाई है।

किंगफिशर हाउस बिल्डिंग में बेसमेंट, एक ग्राउंड फ्लोर, एक अपर ग्राउंड फ्लोर और एक अपर फ्लोर है। इस प्रॉपर्टी का एरिया 1,586 वर्ग मीटर है, जबकि प्लॉट 2,402 वर्ग मीटर का है। किंगफिशर एयरलाइंस पर करीब भारतीय स्टेट बैंक के नेतृत्व वाले बैंकों के कंसोर्टियम का 10 हजार करोड़ रुपये बकाया है। मालूम हो कि इससे पहले शेयरों की नीलामी से कर्जदाता 7,250 करोड़ रुपये वसूल चुके हैं।

Gyan Dairy

इस प्रॉपर्टी को बेचने के लिए पहले भी नीलामी हो चुकी है और आठ बार नीलामी फेल हुई थी। पहली बार इसकी नीलामी मार्च 2016 में हुई थी। इसमें प्रॉपर्टी की कीमत 150 करोड़ रुपये रिजर्व रखी गई थी। रिजर्व प्राइस अधिक रखे जाने की वजह से किंगफिशर हाउस की डील नहीं हो पा रही थी। बता दें कि ब्रिटेन की अदालत ने 26 जुलाई को विजय माल्या को दिवालिया घोषित करने के आदेश को मंजूरी दे दी थी। इससे अब भारतीय स्टेट बैंक (एसबीआई) के नेतृत्व में अन्य भारतीय बैंक माल्या की संपत्ति पर आसानी से कब्जा कर सकेंगे।

Share