WB: दिनेश त्रिवेदी बोले- संसद में पीएम और गृहमंत्री अपशब्द न कहने पर मिलती थी फटकार, कहा-अभिषेक करते हैं बत्तमीजी

कोलकाता। मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के करीबी रहे पूर्व टीएमसी नेता दिनेश त्रिवेदी ने राज्यसभा की सदस्यता से इस्तीफा देने के बाद अपना दर्द बयां किया। दिनेश त्रिवेदी ने टीएमसी के चुनावी रणनीतिकार प्रशांत किशोर और ममता बनर्जी के भतीजे अभिषेक बनर्जी पर गंभीर आरोप लगाए हैं। दिनेश त्रिवेदी ने कहा कि टीएमसी ने उनका ट्विटर अकाउंट अपने कब्जे में रखा था। उससे विवादित ट्वीट किए जाते थे।

दिनेश त्रिवेदी ने कहा कि सीएम ममता बनर्जी के भतीजे अभिषेक बनर्जी बहुत ही अभद्र भाषा का इस्तेमाल करते हैं। दिनेश त्रिवेदी ने भाजपा और वाम दलों को लेकर कहा कि इन दोनों पार्टियों में कोई ‘भाई-भतीजा’ नहीं है। ममता के भतीजे अभिषेक बनर्जी की अपमानजनक भाषा को लेकर दिनेश त्रिवेदी ने यह भी कहा कि चूंकि प्रधानमंत्री गुजराती हैं इसलिए यह जरूरी नहीं कि सभी गुजरातियों के लिए आपत्तिजनक भाषा का इस्तेमाल किया जाए। दिनेश त्रिवेदी ने चुनावी रणनीतिकार प्रशांत किशोर को लेकर कहा कि उनकी टीम के पास तृणमूल नेताओं के सोशल मीडिया अकाउंट के पासवर्ड तक हैं। कई बार मैंने देखा कि अकाउंट से कई बार प्रधानमंत्री और राज्यपाल के लिए अभद्र भाषा वाले ट्वीट किए गए।

Gyan Dairy

दिनेश त्रिवेदी ने कहा कि अगर मैंने संसद में अपने भाषण में पीएम मोदी और गृह मंत्री अमित शाह को भला-बुरा नहीं कहा तो नेतृत्व से फटकार मिलती है। दिनेश त्रिवेदी ने कहा कि जब ममता बनर्जी ने अपने दम पर वाम दलों से संघर्ष किया था तब उनके साथ सिर्फ दो महासचिव थे एक मुकुल रॉय और दिनेश त्रिवेदी यानी मैं। बीजेपी से जुड़ने की संभावना पर उन्होंने का कि बीजेपी में शामिल होना सौभाग्य की बात होगी। बीजेपी दुनिया में नंबर एक पार्टी है। हालांकि, उन्होंने यह भी कहा कि सीताराम येचुरी से लेकर शरद पवार और उद्धव ठाकरे तक सब उनके दोस्त हैं और इस्तीफे के बाद उनकी शरद पवार से मुलाकात भी हुई है।

Share