संसद में बोले रक्षामंत्री राजनाथ सिंह, ‘हम चीन से निपटने के लिए हर तरह से तैयार’

नई दिल्ली। भारत के रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने आज संसद में अपने संबोधन के दौरान एकबार फिर चीन और विपक्षियों को चेतावनी देते हुए कहा कि हम चीन से निपटने के लिए हर तरह से तैयार हैं।

कल से शुरू हुए मॉनसून सत्र में मंगलवार को राजनाथ सिंह ने कहा, ‘मैं सदन से यह अनुरोध करता हूं कि हमारे दिलेरों की वीरता एवं बहादुरी की भूरि-भूरि प्रशंसा करने में मेरा साथ दें। हमारे बहादुर जवान अत्यंत मुश्किल परिस्थतियों में अपने अथक प्रयास से समस्त देशवासियों को सुरक्षित रख रहे हैं।’ उन्होने कहा, ‘सरकार ने पिछले कुछ हफ्तों में सीमा पर इंफ्रास्ट्रचर को तवज्जो दी है। पिछले कुछ समय में चीन के जवानों की संख्या सीमा पर बढ़ी है।’

संसद में राजनाथ सिंह ने कहा- दोनों पक्षों को LAC का सम्मान और कड़ाई से पालन करना चाहिए। किसी भी पक्ष को अपनी तरफ से यथास्थिति का उल्लंघन करने का प्रयास नहीं करना चाहिए। इसके अलावा, दोनों पक्षों के बीच सभी समझौतों का पालन होना चाहिए। उन्होने कहा कि 15 जून को चीनी सेना ने गलवान घाटी में हिंसक झड़प की। हमारे बहादुर सेना के जवानों ने अपनी जान का बलिदान किया और चीनी सेना के जवानों को भी काफी क्षति पहुंचाई है।

Gyan Dairy

राजनाथ सिंह ने कहा कि अप्रैल महीने से पूर्वी लद्दाख में चीनी सेनाओं में काफी वृद्धि देखी गई। इसके बाद मई महीने में गलवान घाटी में आमना-सामना हुआ। चीन द्वारा मई महीने के मध्य में पश्चिमी लद्दाख के कई क्षेत्र में घुसपैठ की कोशिश की थी। हमने चीन से कूटनीतिक और सैन्य बातचीत के जरिए से साफ करा दिया कि यह एकतरफा सीमा को बदलने की कोशिश है और हमें यह मंजूर नहीं है। उन्होने कहा कि चीन सीमा मुद्दा एक जटिल मुद्दा है। इसका शांतिपूर्ण बातचीत से ही हल संभव है।

Share