पश्चिम बंगाल: स्वपन दासगुप्ता को टिकट देकर फंसी बीजेपी, टीमएसी और कांग्रेस ने घेरा

नई दिल्ली। राज्यसभा सदस्य स्वपन दासगुप्ता को टिकट देकर बीजेपी विपक्ष के निशाने पर आ गयी है।​ विपक्षी पार्टियां इसको लेकर बीजेेपी पर हमलावर हो गईं हैं। तृणमूल कांग्रेस और कांग्रेस दोनो पार्टियां चाहती हैं कि स्वपन दासगुप्ता की राज्यसभा सदस्यता खत्म की जाए।

टीएमसी इस मुद्दे को राज्यसभा में उठाने की योजना बना रही है। इस संबंध में राज्यसभा में विपक्ष की सबसे बड़ी पार्टी कांग्रेस ने सभापति वेंकैया नायडू ने स्पष्टीकरण मांगा है। राज्यसभा सभापति को लिखी चिट्ठी में कांग्रेस के चीफ विप जयराम रमेश ने यह बताया कि दासगुप्ता ने चुनाव लड़ने से पहले न तो सदन से इस्तीफा दिया है और न ही उन्होंने कोई और पार्टी ही जॉइन की है।

वहीं, इसको लेकर महुआ मोइत्रा ने संविधान की 10वीं अनुसूची का स्क्रीनशॉट शेयर करते हुए लिखा कि भाजपा की ओर से स्वपन दासगुप्ता को उम्मीदवार के तौर पर उतारा गया है।

Gyan Dairy

संविधान की 10वीं अनुसूची कहती है कि अगर कोई राज्यसभा का मनोनीत सदस्य शपथ लेने और उसके छह महीने की अवधि खत्म होने के बाद अगर किसी भी राजनैतिक पार्टी में शामिल होता है तो उसे राज्यसभा की सदस्यता के लिए अघोषित कर दिया जाएगा। महुआ मोइत्रा ने आगे लिखा कि उन्हें साल 2016 में भाजपा ने शपथ दिलाई थी, जो अभी भी जारी है।

 

Share