पश्चिम बंगाल चुनाव: ममता बनर्जी के मुरीद हुए यशवंत सिन्हा, TMC में हुए शामिल

नई दिल्ली। अटल सरकार में केंद्रीय मंत्री रहे यशवंत सिन्हा ने आज यानी शनिवार को ममता बनर्जी की पार्टी तृणमूल कांग्रेस का दामन थाम लिया है। यशवंत सिन्हा ने कोलकाता स्थिति तृणमूल कांग्रेस के कार्यालय में पार्टी की सदस्यता ली। अटल बिहारी बाजपेई सरकार में वित्त व विदेश मंत्री रहे यशवंत सिन्हा 2014 के बाद से ही नरेन्द्र मोदी सरकार की खुलकर आलोचना कर रहे हैं।

माना जा रहा है कि टीएमसी में शामिल होने के बाद यशवंत सिन्हा पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव में ममता बनर्जी के लिए प्रचार करेंगे। साल 2014 से 2019 के दौरान उनके बेटे जयंत सिन्हा मोदी सरकार में वित्त राज्यमंत्री थे। इसके बाद भी वह पीएम मोदी की खुलकर आलोचना कर रहे थे।

Gyan Dairy

मूलरूप से बिहार के पटना निवासी यशवंत सिन्हा ने साल 1958 में राजनीति शास्त्र में मास्टर डिग्री हासिल की। इसके बाद 1960 में भारतीय प्रशासनिक सेवा के लिए चयनित हो गए। करीब 24 सालों तक भारतीय प्रशासनिक सेवा में काम करने के बाद बाद यशवंत सिन्हा ने 1984 में आईएएस से इस्तीफा देकर तत्कालीन जनता पार्टी की सदस्यता ले ली। इसके बाद साल 1988 में उन्हें राज्य सभा सदस्य चुना गया। वहीं, मार्च 1998 में अटल बिहार वाजपेयी की सरकार में उनको वित्त मंत्री बनाया गया। लोकसभा में यशवंत सिन्हा बिहार के हजारीबाग से सांसद रहे। हजारीबाग अब झारंखड का हिस्सा है। साल 2004 के लोकसभा चुनाव में उन्हें हजारीबाग सीट से हार का सामना करना पड़ा। हालांकि, अगले साल ही 2005 में वे फिर संसद पहुंचे। इसके बाद साल 2009 में उन्होंने बीजेपी उपाध्यक्ष पद से इस्तीफा दे दिया।

Share