मायावती की राह पर चले अखिलेश, बिना खुद चुनाव लड़े बनना चाह रहे मुख्यमंत्री

बसपा मुखिया मायावती की तरह समाजवादी पार्टी मुखिया अखिलेश यादव भी विधानसभा चुनाव नहीं लड़ेंगे। पहले चर्चा थी कि अखिलेश सरोजनी नगर सीट से चुनाव लड़ेंगे। हालांकि उन्होंने अब स्पष्ट कर दिया है कि खुद चुनाव नहीं लड़ेंगे। ताकि पार्टी प्रत्याशियों के विधानसभा क्षेत्रों में प्रचार के लिए पूरा समय निकाल सकें।

अखिलेश यादव जब मुख्यमंत्री बने थे तो उस समय सांसद थे। अगर कोई बिना विधानमंडल का सदस्य हुए मंत्री या मुख्यमंत्री बनना चाहता है तो उसके पास छह महीने का मौका होता है। या तो वह विधायक बने या फिर विधान परिषद सदस्य। जिसके चलते बाद में अखिलेश पार्टी के कोटे से एमएलसी बने। अभी उनका कार्यकाल 2018 तक है। अखिलेश ने लखऩऊ स्थित पार्टी मुख्यालय पर बैठक के दौरान साफ कर दिया कि वे चुनाव नहीं लडेंगे।

Gyan Dairy

अखिलेश यादव ने कहा कि कहा कि हमें विरोधियों से सतर्क रहने की जरूरत है क्‍योंकि विरोधी उनके और उनकी पार्टी के खिलाफ साजिश रच रहे हैं। विरोधी मर्यादाहीन आचरण पर उतारू हो चुके हैं। इसलिए सावधान रहने की जरुरत है।

Share