कुशवाहा ने बीजेपी से कहा : आरक्षण के मुद्दे पर बयानों से बचें नहीं तो नुकसान होगा

राष्ट्रीय लोक समता पार्टी ने भारतीय जनता पार्टी के शीर्ष नेतृत्व को आगाह किया है कि वह आरक्षण पर अपने आसपास के लोगों को बयान देने से रोके नहीं तो इससे उसका बड़ा नुकसान होगा. रालोसपा अध्यक्ष और केंद्रीय मानव संसाधन विकास राज्य मंत्री उपेंद्र कुशवाहा ने जननायक कर्पूरी ठाकुर के जन्मदिन पर पटना में आयोजित अति पिछड़ों के समागम में भारतीय जनता पार्टी को कहा कि वह उन लोगों को इस तरह के बयानों से रोके नहीं तो उसका भारी नुकसान होगा.

बिहार विधनसभा के चुनाव के ठीक पहले भाजपा के समर्थकों ने आरक्षण के विरोध में बयान देकर विपक्ष को हमले का मौका दिया और अंतिम समय में एनडीए गठबंधन के अनुरूप चुनावी वातावरण होने के बाद भी परिणाम महागठबंधन के पक्ष में चला गया. उत्तर प्रदेश में चुनाव के समय भी फिर से आरक्षण को लेकर सवाल उठाया गया है. नतीजे कहीं फिर बिहार जैसे न हों. कुशवाहा ने कहा कि चुनाव से ठीक पहले आरक्षण का विरोध हैरानी में डालने वाला है इसलिए भारतीय जनता पार्टी के शीर्ष नेतृत्‍व को इस पर गंभीरता से विचार करना होगा ताकि भविष्य में इस तरह की बातें न हों क्योंकि इससे सबसे ज्यादा नुकसान भाजपा को ही होगा.

पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव व प्रवक्ता फजल इमाम मलिक ने बताया कि केन्द्रीय मंत्री ने साफ किया कि प्रधनमंत्री नरेन्द्र मोदी के सामाजिक सोच और नीयत पर किसी तरह का शक नहीं किया जा सकता. वे खुद पिछड़े समाज से आते हैं और सामाजिक न्याय को राष्ट्रीय स्तर पर लागू करने की इच्छा रखते हैं लेकिन उनके इर्द-गिर्द का वातावरण उनके विचारों को क्रियान्वित करने के अनुरूप नहीं है. इससे भारतीय जनता पार्टी को नुकसान उठाना पड़ रहा है.

Gyan Dairy

कुशवाहा ने कहा कि रालोसपा समाज के सभी वर्गों को साथ लेकर चलने का संकल्प लेती है. कुशवाहा ने मीडिया और अदालतों में आरक्षण की बात दोहराई. मलिक ने बताया कि समागम में राजनैतिक, आर्थिक, समाजिक एवं शैक्षणिक प्रस्ताव पास किए गए और कर्पूरी ठाकुर को भारत रतन देने, राष्ट्रीय अति पिछड़ा आयोग बनाने और आबादी के लिहाज से अति पिछड़ों के आरक्षण का कोटा बढ़ाने की मांग की गई. सांसद राम कुमार शर्मा, प्रदेश अध्यक्ष भूदेव चैधरी, राष्ट्रीय उपाध्यक्ष शंकर झा आजाद, पूर्व मंत्री दसई चैधरी, राष्ट्रीय कोषाध्यक्ष राजेश यादव, राष्ट्रीय महासचिव व प्रवक्ता फजल इमाम मलिक, राष्ट्रीय महासचिव नचिकेता मंडल, जगन्नाथ गुप्ता, मालती कुशवाहा, अंगद कुशवाहा, अरुण कुशवाहा और राष्ट्रीय महिला प्रकोष्ठ अध्यक्ष सीमा सक्सेना ने भी समागम में विचार व्यक्त किये.

Share