blog

उरी हमले पर सख्त सरकार, आतंक के खिलाफ बड़ी कार्रवाई के संकेत

Spread the love

नई दिल्ली/श्रीनगर: जम्मू-कश्मीर की राजधानी श्रीनगर से 100 किलोमीटर दूर उरी में हुए बड़े आतंकी हमले से देश गुस्से में है तो सरकार ने आतंक के खिलाफ बड़ी कार्रवाई के संकेत दिए हैं. सूत्रों के मुताबिक इस बड़ी कार्रवाई में सर्जिकल अटैक के विकल्प को भी खुला रखा गया है.

आपको बता दें कि रविवार की तड़के सुबह उरी में सेना मुख्यालय पर पाकिस्तान से आए चार आतंकियों ने सेना के कैंप पर तब हमला किया जब जवान गहरी नींद में सो रहे थे. हमलावरों ने जवानों पर बम फेंके, जिससे टेंट में आग लग गई और इस तरह इस हमले में 17 जवान शहीद हो गए, जबकि 19 जख्मी हुए हैं.

इस बड़े आतंकी हमले के बाद सवाल है कि आखिर अब आगे क्या करना है? इस मुद्दे पर दिल्ली में गृह मंत्री राजनाथ सिंह के आवास पर आपात समीक्षा बैठक हुई जिसमें राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजित डोभाल, गृह सचिव, रक्षा सचिव, रॉ चीफ, आईबी चीफ के साथ-साथ सीआरपीएफ के डीजी और डीजीएमओ शामिल हुए.

‘बड़ी कार्रवाई हो’

इस बैठक से बड़ी खबर ये निकल कर आ रही है कि सरकार की तरफ से बड़ी कार्रवाई की तैयारी चल रही है. इस बैठक में इस बात पर चर्चा हुई है कि आतंकियों के खिलाफ बड़ी कार्रवाई हो.

ABP न्यूज़ संवाददाता राजन सिंह के मुताबिक NSA और RAW चीफ ने बाकयदा प्रजेंटेशन देकर ये बताया कि पीओके में कितने ऐसे टेरर कैंप हैं जो कि एलओसी से लगे हैं और कितने लॉन्चिंग पैड हैं जहां से आतंकी घुसपैठ करके जम्मू-कश्मीर में दाखिल होते हैं. पूरी जानकारी गृह मंत्रालय को दी गई है. आतंकियों के पास हथियारों का कितना बड़ा जखीरा है इसकी भी जानकारी दी गई है.

इस जानकारी के आधार पर अब सरकार बड़ी कार्रवाई के मूड में दिख रही है और इसके लिए रणनीति बनाई जा रही है.

सूत्रों के मुताबिक ये कार्रवाई दोहरे स्तर पर होगी. पहली कार्रवाई जम्मू-कश्मीर में आतंकियों के लिए जो सेफ हाउसेस या हाइड आउट्स हैं उन्हें निशाने पर लेना है. इन सेफ हाउसेस या हाइड आउट्स को खत्म करने के लिए सेना और सुरक्षाबलों की तरफ से ऑपरेशन चलाया जाएगा. साथ ही सर्जिकल स्ट्राइक के भी विकल्प को खुला रखा गया है. हालांकि, इसपर आखिरी फैसला प्रधानमंत्री मोदी को करना है. जो भी रणनीति बनाई जा रही है कि उसकी जानकारी पीएम मोदी की दी जाएगी.

राजनाथ के आवास पर हुई बैठक में जहां बड़ी कार्रवाई के संकेत दिए गए, वहीं पीएम मोदी ने भी ट्वीट करके अपनी मंशा बता दी है. उन्होंने साफ कहा कि उरी हमले के दोषियों को बख्शा नहीं जाएगा. हालांकि, उरी हमले के लिए विपक्ष मोदी सरकार पर हमला कर रही है और इसके लिए केंद्र की लापरवाही को जिम्मेदार करार दे रही है.

You might also like