रामगोपाल द्वारा मुलायम सिंह को लिखे पत्र पर ओवैसी ने कसा तंज

उत्तर प्रदेश में सत्ताधारी समाजवादी पार्टी की लड़ाई पर ओवैसी ने कहा कि समाजवादी परिवार में घमासान मचा है। मुख्यमंत्री की कुर्सी पर बैठने के बाद अखिलेश यादव के तेवर बदल गए हैं। ओवैसी इतने पर ही नहीं रुके और कहा कि बेटा बाप व चाचा का नहीं हुआ वह आप लोगों का क्या होगा। आप लोग अब उसकी बात पर यकीन मत करना। ओवैसी ने कहा कि हमको शरीयत में दखलंदाजी कतई स्वीकार नहीं है।

akhileshyadav_650_090816075303_092416011234_101616051234

जनपद बलरामपुर के अंतर्गत गैसडी विधानसभा क्षेत्र के पचपेड़वा में लोकमान्य तिलक इण्टर कालेज के मैदान पर आॅल इण्डिया मजलिस ए इत्तेहादुल मुस्लिमीन पार्टी का आयोजन किया गया जिसमें पार्टी के अध्यक्ष व सांसद अससुद्दीन ओवैसी ने एक जनसभा को संबोधित किया।

Gyan Dairy

 सपा पार्टी के कुनबे में मचा आपसी घमासान रूकने का नाम ही नहीं ले रहा है। सपा सुप्रीमो मुलायम सिंह के अखिलेश को फिर से मुख्यमंत्री का चेहरा न बनाए जाने के फैसले के बाद से घर और पार्टी में कोहराम मचा हुआ है। सपा सुप्रीमो के इस फैसले से चाचा शिवपाल बहुत खुश हैं, हालांकि, चाचा-भतीजा यानी शिवपाल और अखिलेश अलग-अलग जिलों में थे. शिवपाल ने इटावा में पूछे गए एक सवाल में कहा कि वह पहले ही अखिलेश को अगला मुख्यमंत्री बता चुके हैं, ऐसे में बार-बार सवाल नहीं उठना चाहिए. दूसरी ओर अखिलेश यादव ने सिद्धार्थनगर में कहा कि वे छठी बार भी राज्य का बजट पेश करेंगे.  परिवर्तन या बदलाव की बात हिंदू विवाह एक्ट में क्यों नहीं होती है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर निशाना साधते हुए ओवैसी ने कहा कि भारतीय जनता पार्टी तथा संघ के लोग कहते हैं की मोदी का विरोध करने वाला देश विरोधी है तो हम कौम व आवाम के लिए वह विरोध करते हैं। इस अवसर पर हजारों की संख्या में लोग मोजूद रहे। रामगोपाल ने चिठ्ठी में लिखा है कि अखिलेश यादव को मुख्यमंत्री के चेहरे के तौर पर आगे नहीं करना अखिलेश को कमजोर करना होगा. ऐसा करना पार्टी के लिए बड़ा नुकसानदायक साबित हो सकता है. रामगोपाल यादव ने अपने पत्र में आगे लिखा है कि इस समय अखिलेश को आपके मजबूत साथ की जरूरत है. उन्होंने कहा है कि अखिलेश को सीएम चेहरे के तौर पर आगे नहीं करने से कार्यकर्ताओं और पार्टी कैडर में कन्फ्युजन फैलेगा जो हित में नहीं है.  आप लोग अब उसकी बात पर यकीन मत करना। ओवैसी ने कहा कि हमको शरीयत में दखलंदाजी कतई स्वीकार नहीं है। समाजवादी कुनबे में मचा घमासान फिलहाल कम होने का नाम नहीं ले रहा है. अखिलेश को फिर से मुख्यमंत्री के चेहरे के तौर पर प्रोजेक्ट नहीं करने के मुलायम सिंह के फैसले के बाद से घर और पार्टी में कोहराम मचा हुआ है. मुलायम के इस फैसले से चाचा शिवपाल खुश हैं, लेकिन रामगोपाल नाराज हैं. शनिवार को रामगोपाल यादव ने चिट्ठी लिखकर मुलायम सिंह से फैसले पर पुनर्विचार करने की मांग की है.  जनपद बलरामपुर के अंतर्गत गैसडी विधानसभा क्षेत्र के पचपेड़वा में लोकमान्य तिलक इण्टर कालेज के मैदान पर आॅल इण्डिया मजलिस ए इत्तेहादुल मुस्लिमीन पार्टी का आयोजन किया गया जिसमें पार्टी के अध्यक्ष व सांसद अससुद्दीन ओवैसी ने एक जनसभा को संबोधित किया।

Share