कांग्रेस उपचुनाव में प्रत्याशी नहीं देना चाहती है

सोमवार को प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष अधीर रंजन चौधरी व विधान सभा में विपक्ष के नेता अब्दुल मन्नान ने विधानसभा में कांग्रेस विधायकों के साथ बैठक की. बैठक के बाद उन्होंने संवाददाताओं को बताया कि चुनाव लड़ने या नहीं लड़ने पर अभी तक निर्णय नहीं किया गया है.

कोलकाता. पश्चिम बंगाल में लोकसभा और विधानसभा उपचुनावों के साथ अनौपचारिक गंठबंधन का संकेत देते हुए प्रदेश कांग्रेस के प्रमुख अधीर रंजन चौधरी ने सोमवार को कहा कि उनकी पार्टी ने अभी तक यह तय नहीं किया है कि चुनाव लड़े या नहीं, लेकिन पार्टी यह सुनिश्चित करेगी कि तृणमूल कांग्रेस विरोधी और भाजपा विरोधी मतों का विभाजन न हो.और चुनाव तिथि की घोषणा होने दें. अभी तक हमने कुछ भी तय नहीं किया है. हम यह सुनिश्चित करेंगे कि विपक्ष के मतों के विभाजन का लाभ तृणमूल कांग्रेस और भाजपा को न मिले.

बिहार में तृणमूल कांग्रेस सांसद रेणुका सिन्हा की मृत्यु होने की वजह से उपचुनाव होना है, जबकि नंदीग्राम विधानसभा सीट से तृणमूल कांग्रेस के शुभेंदु अधिकारी के जीतने से तमलुक लोकसभा सीट पर उप चुनाव कराया जाना है. शुभेंदु अधिकारी ने राज्य विधानसभा में शामिल होने से पहले सांसद के पद से इस्तीफा दे दिया था. वहीं, विधायक सजल पंजा की मृत्यु के चलते मोंतेश्वर विधानसभा सीट पर उपचुनाव होना

Gyan Dairy

विपक्ष के कांग्रेसी नेताओं ने मुख्यमंत्री से मिल कर महत्वपूर्ण मुद्दों पर बातचीत करने का फैसला किया है. लिहाजा कांग्रेसी नेताओं के साथ बैठक के लिए मुख्यमंत्री वक्त निर्धारित करें. उल्लेखनीय है कि राज्य की बिगड़ती कानून व्यवस्था की स्थिति और प्रशासन की असफलता का जिक्र करते हुए पूर्व में श्री मन्नान ने मुख्यमंत्री को पत्र लिखा था.

 

Share