EC ने गोवा में रिश्वत संबंधी टिप्पणी पर केजरीवाल के खिलाफ FIR का आदेश दिया

दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल नई परेशानी में घिरते नज़र आ रहे हैं, निर्वाचन आयोग ने गोवा में रिश्वत संबंधी टिप्पणी को लेकर अरविन्द केजरीवाल के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज करने का आदेश दिया। चुनाव आयोग ने आज गोवा में निर्वाचन अधिकारियों को आदेश दिया है कि राज्य में एक चुनावी रैली में रिश्वत लेनदेन को लेकर दिये गये बयानों के लिए दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की जाए।

आयोग ने कहा कि आप नेता के खिलाफ जन प्रतिनिधित्व कानून में मतदाताओं को रिश्वत देने से संबंधित प्रावधान और आईपीसी की संबंधित धाराओं के तहत प्राथमिकी दर्ज की जाए।

आयोग ने केजरीवाल के इस दावे को भी अपमानजनक करार दिया कि आयोग उन्हें इस तरह के बयान देने से रोककर रिश्वतखोरी को बढ़ावा दे रहा है।

चुनाव आयोग के मुताबिक, दिल्ली के मुख्यमंत्री और गोवा में आप का स्टार प्रचारक होने के नाते उनसे चुनाव प्रचार में कानूनी तरीके से सराहनीय काम करने की उम्मीद की जाती है ताकि वे दूसरों के लिए भी आदर्श बनें लेकिन उन्होंने कई बार चुनाव आयोग को दिये आश्वासन को तोड़कर आदर्श आचार संहिता के प्रावधानों का उल्लंघन किया है।

गौरतलब है कि 8 जनवरी को अरविंद केजरीवाल ने गोवा के बेनौलिम विधानसभा क्षेत्र में एक चुनावी रैली के दौरान लोगों से अपील की थी कि वे कांग्रेस और बीजेपी से पैसे लें मगर वोट आम आदमी पार्टी को दे। उन्होंने रैली में कहा था, यदि कांग्रेस और भाजपा उम्मीदवार पैसे देते हैं तो मना मत कीजिए। उसे ले लीजिए क्योंकि यह आपका पैसा है. लेकिन जब वोट देने की बारी आती है तो आप उम्मीदवार के सामने वाला बटन ही दबाइए।

Gyan Dairy

आयोग ने कहा, आयोग निर्देश देता है कि बयानों के लिए अरविंद केजरीवाल के खिलाफ प्राथमिकी-शिकायत दर्ज करके जरूरी कानूनी कार्रवाई शुरू की जाए। इस संबंध में अनुपालन रिपोर्ट आयोग को 31 जनवरी को तीन बजे तक भेजी जानी चाहिए।

चुनाव आयोग ने केजरीवाल को चेतावनी देते हुए कहा था कि अगर वह इसी तरह से आचार संहिता का उल्लंघन करते रहेंगे तो इससे उन्हें ही दिक्कत होगी। आचार संहिता का उल्लंघन किए जाने पर आम आदमी पार्टी की मान्यता खत्म करने जैसे सख्त कदम भी उठाए जाने की चेतावनी चुनाव आयोग ने दी थी।

इससे पहले 16 जनवरी को अरविंद केजरीवाल को चुनाव आयोग की तरफ से कारण बताओ नोटिस भी जारी किया जा चुका है।

Share