यूपी चुनाव: अमेठी में दिलचस्प होगा रानी से रानी का मुकाबला

अमेठी : उत्तर प्रदेश के अमेठी में नजारा दिलचस्प है. सीट से कांग्रेस नेता संजय सिंह की पहली और वर्तमान पत्नियों के बीच चुनावी मुकाबला तय दिख रहा है. ‘‘रानी से रानी के मुकाबले’’ में गरिमा को बीजेपी ने प्रत्याशी बनाया है तो कांग्रेस-एसपी गठजोड़ के कारण एसपी उम्मीदवार उतारे जाने के बावजूद अमिता यहीं से चुनाव लड़ने पर आमादा दिख रही हैं.

राजघराने में गरिमा के नाम और हैसियत तथा जनता की सहानुभूति जैसी वजहों पर बीजेपी भरोसा कर चल रही है और यही कारण है कि उसने गरिमा को मैदान में उतारा. उधर सीट बंटवारे के तहत अमेठी सीट एसपी को मिल गयी है और विवादास्पद नेता गायत्री प्रजाति यहां से उम्मीदवार हैं.

विधानसभा चुनावों की बात करें तो 60 वर्षीय गरिमा पहली बार राजनीतिक सफर की शुरूआत कर रही हैं. जुलाई 2014 में बेटे अनंत विक्रम और पुत्रियों महिमा एवं शैव्या के साथ पारिवारिक भूपति भवन महल लौटने पर वह सुखिर्यों में थीं. पारिवारिक विरासत पर नियंत्रण को लेकर उनकी संजय सिंह और दूसरी पत्नी अमिता से काफी कहासुनी भी हुई.

Gyan Dairy

बीजेपी ने 2019 के लोकसभा चुनावों को देखते हुए गरिमा पर दांव लगाया है. यहां पार्टी राहुल गांधी को उखाड़ फेंकना चाहती है और पिछले चुनाव में राहुल के हाथ पराजित हुई केन्द्रीय मंत्री स्मृति ईरानी भी इसके लिए कड़ी मेहनत कर रही हैं.

स्मृति और राहुल के बीच हार-जीत के वोटों का अंतर कम था. ऐसे में बीजेपी को उम्मीद है कि वह कांग्रेस के गढ़ पर कब्जा कर सकती है. राजघराने से ताल्लुक रखने वाली गरिमा पूर्व प्रधानमंत्री विश्वनाथ प्रताप सिंह की भांजी हैं. अमेठी में पांचवे चरण के तहत 27 फरवरी को मतदान होगा.

Share