UA-128663252-1

चाणक्य नीति के अनुसार इन 3 रिश्तों पर कभी भी नही करना चाहिए विश्वास, अन्यथा…

आचार्य चाणक्य द्वारा लिखी गयी चाणक्य नीति पढ़कर आप अपने जीवन को आसान कर सकते हैं। आचार्य चाणक्य को महान शिक्षाविद और कुशल अर्थशास्त्री माना जाता है। चाणक्य ने नीति शास्त्र में जीवन के हर पहलू से जुड़ी कई बातों का जिक्र किया है। इतिहास के जानकारों का मानना है कि चाणक्य को जीवन से जुड़े अनुभवों और बातों का गहनता से ज्ञान था। यही कारण है कि उनकी नीतियां आप भी लोगों को सही रास्ता दिखा रही हैं। चाणक्य कहते हैं कि किसी भी व्यक्ति पर अंधविश्वास नहीं करना चाहिए। नीति शास्त्र के अनुसार, विश्वास ही विश्वासघात को जन्म देता है। चाणक्य का कहना है कि किसी भी व्यक्ति पर विश्वास करने से पहले उसे विश्वास की कसौटी पर दस बार परखना चाहिए। चाणक्य के मुताबिक, जानिए किन लोगों पर कभी नहीं विश्वास करना चाहिए।

1. लालची स्त्री-

चाणक्य नीति के अनुसार, किसी भी शख्स को लालची स्त्री पर विश्वास नहीं करना चाहिए। चाणक्य कहते हैं कि उस स्त्री पर कभी विश्वास नहीं करना चाहिए जो धन, संपत्ति, गहने, भवन, सुख और संभोग की चाह में पुरुष के पास आती है। समय और परिस्थियां बदलने पर स्त्री धोखेबाज साबित हो सकती है। चाणक्य कहते हैं कि इसलिए ऐसी स्त्रियों से बचकर रहना चाहिए।

2. प्रतिद्वंदी-

Gyan Dairy

चाणक्य कहते हैं कि कभी भी अपने प्रतिद्वंदी पर विश्वास नहीं करना चाहिए। नीति शास्त्र के अनुसार, जो व्यक्ति प्रतिद्वंदी पर भरोसा करते हैं, वह निश्चित तौर पर धोखा खाते हैं। चाणक्य के अनुसार, किसी भी प्रतियोगिता का हिस्सा बनने से पहले व्यक्ति को अपने सभी रिश्ते नाते प्रतियोगिता के बाहर ही छोड़ देने चाहिए।

3. नए दोस्त-

चाणक्य कहते हैं कि नए दोस्त पर कभी भी विश्वास नहीं करना चाहिए। नीति शास्त्र के अनुसार, चार दिन के लिए दोस्ती करने वाले लोगों का कोई न कोई स्वार्थ जुड़ा होता है। इसलिए नए दोस्तों से हमेशा बचकर और सतर्क रहना चाहिए। नए दोस्तों को कुछ समय के लिए दोस्ती रखते हैं वह भविष्य में परेशानियों का सबब बन सकते हैं।

Share