कई दशकों बाद करीब आयेंग गुरु और शनि, जाने राशियों पर क्या पड़ेगा प्रभाव

नासा के अनुसार, 1623 के बाद यानी करीब 400 साल बाद 21 दिसंबर 2020, दिन सोमवार को आसामन में दो ग्रहों वृहस्पति और शनि का संयोजन दिखेगा। भारतीय ज्योतिष में इस अद्भुत घटना को गुरु और शनि का महा मिलन कहा गया है तो नासा ने इस ‘क्रिसमस स्टार’ नाम दिया है।

नासा के अनुसार, गुरु और शनि का यह महामिलन अगले एक-दो सप्ताह तक आसमान में दृश्य रहेगा। लेकिन भारतीय समयानुसार लोग अपनी आंख से ही 21 दिसंबर की शाम को सूरज ढलते ही पश्चिम दिशा में देख सकेंगे। इस महामिलन के दौरान दोनों ग्रह एक-दूसरे को पार करते दिखेंगे।

वृहस्पति जहां सौर मंडल का सबसे बड़ा ग्रह है वहीं शनि नीले रंग की वलय वाला ग्रह है। सोमवार की शाम को दोनों ग्रह एक दूसरे से मिलते दिखाई देंगे। रिपोर्ट्स के अनुसार, सूर्य की परिक्रमा करते हुए दोनों ग्रह 20 साल में एक दूसरे के करीब आते हैं लेकिन करीब 400 साल बाद ऐसा होगा जब दोनों ग्रह एक-दूसरे के बेहद समीप दिखाई देंगे।

वैज्ञानिकों के अनुसार, गुरु और शनि के ग्रेट कंजक्शन की इस घटना के समय वृहस्पति की पृथ्वी से दूरी लगभग 5.924 एस्ट्रेनॉमिकल यूनिट होगी, जबकि शनि की दूरी 10.825 एस्ट्रेनॉमिकल यूनिट होगी।

ऐसे देखें वृहस्पति और शनि का महा मिलन:
गुरु और शिन के संयोजन को आप बिना किसी टेलीस्कोप की मदद से भी देख सकेंगे। इसके लिए आपको बिल्डिंगों और पेड़ो से दूसर खुले आसमान के नीचे या पास की सबसे ऊची छत पर जाना होगा। यहां से आप पश्चिम दिशा में सूर्यास्त के साथ ही (शााम 5:30 से 6:30 तक) दो ग्रहों का मिलन देख सकेंगे। इन ग्रहों को और भी करीब से देखना चाहें तो आप अच्छी क्वालिटी की टेलीस्कोप के जरिए इसे देख पाएंगे।

इसके अलावा आप नासा की वेबसाइट, नासा टीवी और यूट्यूब चैनल पर भी इस महामिलन को लाइव देख सकेंगे

अप्रैल में 6 तारीख से जब गुरु ,शनि से अलग होंगे। तब जाकर कोरोना और किसान समस्या का ठीक से हल निकलेगा। परंतु इससे पहले ,फरवरी में जब 5 ग्रह मकर राशि में होंगे तब एक बार फिर ऐसा जन आक्रोश किसी भी कारण से देखने को मिल सकता है। शनि न्यायाधीश की भूमिका निभाएंगे और न्यायालयों को जनता की समस्याओं को सुलझाने के लिए बार-बार आगे आना पड़ेगा। धनु और मीन राशियों के स्वामी गुरु हैं तो मकर व कुंभ के शनि हैं। ये चारों राशियों के लोगों पर इस गुरु- शनि के महासंयोग का प्रभाव व्यक्तिगत रुप से भी पड़ सकता है। धनु, मकर तथा कुंभ राशि वाले वैसे भी साढ़ेसाती के प्रभाव में हैं। ऐसे जातकों को ओम् गुरुवाय नमः और ओम् श्नैश्चरायै नमः का पाठ करते रहना चाहिए।

मेष राशि
इस राशि के जातकों के लिये गुरु और शनि का मकर राशि में मिलन लाभदायक सिद्ध साबित होगा। आप जमीन, घर और गाड़ी खरीद सकेंगे। पारिवारिक विवाद सुलझेंगे।कार्यक्षेत्र में बेहतर बदलाव के मौके मिल सकते हैं।

वृषभ राशि
वृषभ राशि के जातकों के लिए यह समय बेहतर साबित हो सकता है। भाग्य का भरपूर साथ मिलेगा। अधूरे काम पूरे होंगे। आर्थिक स्थिति अच्छी होगी।

मिथुन राशि
इस राशि जातकों को मेहनत करना होगा। मेहनत से ज्यादा फल मिलेगा। विवाद से बचने की कोशिश करें।

Gyan Dairy

कर्क राशि
इस राशि के जातकों के मान सम्मान में वृद्धि होगी। नौकरी या फिर नौकरी प्रमोशन मिलेगा। व्यापारियों को भी सफलता मिलेगी। स्त्री वर्ग के सम्मान से लाभ होगा।

सिंह राशि
इस राशि वालों की परेशानी बढ़ सकती है। प्रतिद्वंदियों से समाधान रहने की जरूरत। नए मौके मिलेंगे और आर्थिक उन्नति भी हो सकती है।

कन्या राशि
शुभ समाचार मिलेगा और कोई बड़ी समस्या का समाधान होगा। आर्थिक स्थिति भी बेहतर होगी। सूर्य देव की पूजा लाभदायक रहेगा।

तुला राशि
घर में फिर से खुशहाली आएगी। आपके प्रयास सफल होंगे। जमीन और घर खरीद सकते हैं। नौकरी और व्यापार में उन्नति के योग।

वृश्चिक राशि
आपको भाग्य का साथ मिलेगा। मेहनत का फल मिलेगा। छात्रों को नए मौके मिल सकते हैं। दांपत्य जीवन अच्छा रहेगा।

धनु राशि
ईमानदारी से प्रयास करें। भाग्य का साथ मिलेगा। शनिदेव की अंतिम ढैय्या की वजह से आपको भगवान पर भरोसा रखना चाहिए। जल्द अच्छे दिन आएंगे।

मकर राशि
ईश्वर की कृपा बनेगी। जीवनसाथी का सहयोग मिलेगा। बिगड़े काम बनेंगे। आपके कामों की तारीफ होगी।

कुंभ राशि
परेशानी बढ़ सकती है। आय से अधिक व्यय की संभावना। धैर्य के काम करें। सफलता जरूर मिलेगी।

मीन राशि
इस राशि के जातकों के लिए अच्छा समय। अचानक आर्थिक लाभ मिलेगा। सफलता कदम चूमेगी। स्वास्थ्य के प्रति सजग रहें।

Share