यहां एक ही पंडाल में मनाया जा रहा गणेश चतुर्थी और मुहर्रम

बंगलूरू। आजकल देश में हिंदू जहां गणेश चतुर्थी का त्योहार मना रहे हैं वहीं मुस्लिम समुदाय मुहर्रम के ताजिए निकाल रहा है। कर्नाटक के एक गांव में हिंदू-मुस्लिम एकता की एक अनोखी मिसाल कायम की गई है। धारवाड़ जिले के हुबली में बिदुनल क्षेत्र के लोग एक ही पंडाल में गणेश चतुर्थी और मुहर्रम एक साथ मनाते हैं। ऐसा हर उस साल होता है, जब दोनों त्योहारों की तारीखें मिलती हैं। मीडिया से बात करते हुए मौलाना ज़ाकिर क़ाज़ी ने कहा कि गणेश चतुर्थी और मुहर्रम की तिथियां प्रत्येक 33-35 वर्षों में मेल खाती हैं।

उन्होंने कहा, “इस गांव में कोई भी हिंदू या मुसलमान अकेला नहीं है। दोनों एक साथ रहते हैं। हम सभी ईश्वर के संतान हैं। त्योहारों को एक साथ मनाने की प्रथा लोगों के दिलों में प्यार और एक साथ रहने की भावना पैदा करती है। दोनों समुदाय के लोग अपने त्योहारों को यहां समान श्रद्धा के साथ मनाते हैं।”

एक भक्त मोहन ने कहा, “यह पहले भी किया गया था, हम परंपरा को आगे ले जा रहे हैं। ये दो त्योहार तब से साथ मनाए जा रहे हैं जब हम बच्चे थे। यहां के लोगों ने एक ही पंडाल में मुहर्रम और गणेश चतुर्थी को बड़े हर्षोल्लास के साथ मनाया। यह परंपरा अभी भी जारी है। यही देश की एकता है।” एक अन्य भक्त आसिफ बलारी ने कहा कि त्योहारों को एक साथ मनाना मानवता का प्रतीक है।

Gyan Dairy

उन्होंने कहा, “हर कोई यहां त्योहार एक साथ मनाता है। हिंदू और मुस्लिम के बीच कोई अंतर नहीं होगा यदि लोग अपने त्योहारों को एक साथ मनाना शुरू कर दे। ऐसा देश के अन्य हिस्सों में भई होना चाहिए। इस तरह हम समाज को एक संदेश दे सकते हैं।”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Share