UA-128663252-1

पितृपक्ष: आज है मातृ नवमी, जाने श्राद्ध में किस तरह चुका सकते हैं मातृ ऋण

वर्तमान समय में पितृपक्ष का पखवाड़ा चल रहा है, इस दौरान लोग अपने पूर्वजों की श्राद्ध करते हैं. आज मातृ नवमी का दिन है, कहा जाता है कि इस दिन घर की उन सभी महिलाओं का श्राद्ध किया जाता है, जिनका निधन हो चुका है. कहा जाता है कि आज के दिन श्राद्ध करने वाले व्यक्ति की सभी मनोकानाएं पूरी होती हैं. मातृ नवमी के दिन मातृ ऋण से भी मुक्ति पाई जा सकती है.

मान्यता है कि इस दिन श्राद्ध करने से माताओं का आशीर्वाद मिलता है और श्राद्ध करने वाले व्यक्ति की सभी मनोकानाएं पूरी होती हैं. पितृ पक्ष की मातृ नवमी को सौभाग्यवती नवमी भी कहते हैं. इस दिन मातृ ऋण से भी मुक्ति पाई जा सकती है.

मातृ ऋण कैसे पहचानें?

जीवन में सबसे बड़ा ऋण हमारी माता का ही होता है. चतुर्थ भाव, चन्द्रमा और शुक्र मुख्य रूप से माता और उसके सम्बन्ध के बारे में बताते हैं. अगर कुंडली में राहु का सम्बन्ध चतुर्थ भाव चन्द्रमा या शुक्र से हो तो समझना चाहिए कि कुंडली में मातृ ऋण है. हाथों का कठोर होना और हथेलियों का काला होना भी मातृ ऋण के बारे में बताता है. मातृऋण का शोधन न कर पाने पर, तमाम तरह की समस्याएं पैदा होती हैं. मातृऋण का शोधन मातृनवमी पर सरलता के साथ किया जा सकता है.

मातृ ऋण प्रभावशाली हो तो किस तरह की समस्याएं आती हैं ?

Gyan Dairy

व्यक्ति को भय और तनाव पालने की आदत होती है. व्यक्ति अक्सर अवसाद का शिकार हो जाता है. व्यक्ति के जीवन में युवावस्था से ही उतार-चढ़ाव शुरू हो जाता है. व्यक्ति को महिलाओं की वजह से समस्या का सामना करना पड़ सकता है.

कुंडली में मातृऋण है तो मातृनवमी पर क्या उपाय करें?

मातृ नवमी के दिन सम्पूर्ण श्रृंगार की सामग्री ले आएं. इसमें लाल रंग की साड़ी, सिन्दूर, बिंदी और चूड़ियां जरूर रखें. सम्पूर्ण भोजन बनायें , भोजन में उरद की बनी हुई वस्तुएं जरूर रखें. अब किसी सौभाग्यवती स्त्री को सम्मान सहित घर बुलाएं, उसे भोजन कराएं. उन्हें सम्पूर्ण श्रृंगार की सामग्री भेंट करें और आशीर्वाद लें.

Share