आज है देवउठनी एकादशी, जाने तुलसी पूजा का शुभ मुहूर्त, पढ़ें तुलसी जी की स्तुति- नमो-नमो तुलसी महारानी

सनातन धर्म में देवउठनी एकादशी का विशेष महत्व होता है, आज ही कार्तिक मास के शुक्ल पक्ष की एकादशी है और पूरे देश में आज ही इसे देवउठनी एकादशी, देवोत्थान एकादशी, देव प्रबोधिनी एकादशी के रूप में मनाया जा रहा है। देवउठनी एकादशी के दिन ही तुलसी विवाह आयोजित किया जाता है। शालीग्राम और तुलसी की पूजा से पितृदोष का शमन होता है। इस एकादशी के दिन स्नान-दान करने का अक्षय फलदायक मिलता है। आज शुभ समय सुबह 6:00 से 9:11 बजे तक है। तुलसी विवाह का शुभ समय शाम 5:00 से 6:30 तक है। राहुकाल दोपहर 12:00 से 1:30 बजे तक है। इस समय शुभ कार्य न करें। इस दौरान तुलसी जी की स्तुति का पाठ करना चाहिए।

नमो नमो तुलसी महारानी

नमो नमो हरि की पटरानी

जाको दरस परस अघ नासे

महिमा वेद पुराण बखानी

साखा पत्र, मंजरी कोमल

श्रीपति चरण कमल लपटानी

धन्य आप ऐसो व्रत किन्हों

सालिग्राम के शीश चढ़ानी

Gyan Dairy

छप्पन भोग धरे हरि आगे

तुलसी बिन प्रभु एक ना मानी

प्रेम प्रीत कर हरि वश किन्हें

सांवरी सूरत ह्रदय समानी

मीरा के प्रभु गिरधर नागर

भक्ति दान दीजै महारानी।

 

Share