विंड चाइम की ध्वनि से आती है घर में सकारात्मक ऊर्जा

नई दिल्ली। विंड चाइम से निकालने वाली ध्वनि आपके घर या कार्यस्थल पर प्रवेश करने वाली नकारात्मक ऊर्जाओं से सुरक्षा करती है। इसे शुभ ऊर्जा और सौभाग्य का प्रतीक है। प्राचीनकालीन वैदिक संस्कृति में भी ध्वनि को विशेष महत्त्व दिया गया है। मंत्रोचारण और शंख इत्यादि से निकलने वाली शुभ ध्वनियां इसके कुछ उदाहरण हैं। ऐसी भी मान्यता है कि विंड चाइम का उद्भव मंदिर के बाहर लगी घंटियों का अनुकरण करते हुए ही हुआ है। इसे लगाने से घर में सुख-समृद्धि के द्वार खुलते है।

प्रत्येक दिशा का सम्बन्ध किसी विशेष तत्व से होता है और उसी अनुसार हमें विंड चाइम का चयन करना चाहिए। जैसे कि दक्षिण-पश्चिम दिशा का सम्बन्ध पृथ्वी तत्व से होता है, तो इस दिशा में आप मिट्टी के बनी विंड चाइम लगा सकते हैं। वहीं, पूर्वी दिशा का तत्व वुड यानी कि लकड़ी से होता है, इसलिए यहां पर आप लकड़ी से बनी विंड चाइम लगाएं। इसी तरह से उत्तर, उत्तर-पश्चिम या पश्चिम दिशा में आप धातु से बनी विंड चाइम लगा सकते हैं। फेंग शुई के अनुसार, एक सीध में तीन दरवाजे नहीं होने चाहिए। ऐसा होने पर ऊर्जा का प्रवाह संतुलित नहीं रहता है और इसका नकारात्मक असर विशेष तौर पर अंतिम कमरे में रहने वाले लोगों पर पड़ता है। ऐसे में बीच के स्थान पर एक 5 पाइप वाली विंड चाइम को लगाकर ऊर्जा के प्रवाह को संतुलित किया जा सकता है। इसके अलावा यदि आपका प्रवेश द्वार नकारात्मक स्थान पर है, तो वहां पर भी आप विंड चाइम लगाकर उस स्थान से प्रवेश करने वाली नकारामक ऊर्जा को कम कर सकते हैं। सूर्य की ऊर्जा जीवन के लिए सबसे महत्वपूर्ण है, लेकिन कुछ घरों में उनकी बनावट की वजह से या फिर उनके उत्तरमुखी होने की वजह से पर्याप्त वेंटिलेशन की व्यवस्था नहीं होती है, जिससे घर में सूर्य का पर्याप्त प्रकाश नहीं पहुंच पाता है। ऐसी स्थिति में 9 पाइप वाली विंड चाइम को इस प्रकार के किसी स्थान पर लगाया जा सकता है, जहां सूर्य की ऊर्जा व प्रकाश का अभाव हो। बच्चों के बेहतर करियर और उनकी मेहनत का लाभदायक परिणाम प्राप्त करने के लिए आप 6 व 7 पाइप वाली विंड चाइम पश्चिम दिशा में लगा सकते हैं। विंड चाइम खरीदते वक्त इसमें लगे पाइप की संख्या का जरूर ध्यान रखें। फेंग शुई के अनुसार 6, 7, 8, या 9 पाइप वाली विंड चाइम शुभ मानी जाती है। इस बात का ध्यान रखें कि विंड चाइम के पाइप बीच में से खाली हो व यह अधिक भारी न हो। साथ ही इस बात को सुनिश्चित करना भी आवश्यक है कि इससे निकालने वाली ध्वनि सुरीली और कर्णप्रिय हो। घर में या ऑफिस में टूटी हुई विंड चाइम नही लगानी चाहिए। इसे ऐसे स्थान पर लगाएं, जहां पर थोड़ी हवा चलती हो ताकि इससे ध्वनि निकल सके, अन्यथा यह सिर्फ एक दिखावट की वस्तु बनकर रह जायेगी। इसे बिलकुल खुले स्थान या ऐसी जगह पर भी न लगाए कि यह निरंतर आवाज करती रहे।

Gyan Dairy

 

Share