चार नवंबर को करवा चौथ की इस शुभ मुहूर्त में करें पूजा

नई दिल्ली। महिलाओं के लिए अखंड सौभाग्य का व्रत करवा चौथ हर वर्ष कार्तिक मास के कृष्ण पक्ष की चतुर्थी तिथि को पड़ती है। करवा चौथ का व्रत 4 नवंबर को मनाया जाएगा। इस दिन व्रत रखने वाली महिलाएं चंद्रमा को देखकर अपने जीवनसाथी के हाथों जल ग्रहण करके व्रत को पूरा करती हैं। कार्तिक मास के कृष्ण पक्ष की चतुर्थी तिथि का प्रारंभ 4 नवंबर को तड़के 3 बजकर 24 मिनट पर हो रहा है। चतुर्थी तिथि का समापन 5 नवंबर दिन गुरुवार को प्रात:काल 05 बजकर 14 मिनट पर होगा। ऐसे में करवा चौथ का व्रत 4 नवंबर को रखा जाएगा। इस दिन करवा चौथ की पूजा का मुहूर्त 1 घंटा 18 मिनट के लिए शाम में बन रहा है।

4 नवंबर को शाम 5 बजकर 34 मिनट से शाम 6 बजकर 52 मिनट तक करवा चौथ की पूजा का मुहूर्त है। 4 नवंबर यानी कार्तिक कृष्ण चतुर्थी के दिन व्रत के लिए कुल 13 घंटे 37 मिनट का समय है। आपको सुबह 6 बजकर 35 मिनट से रात 8 बजकर 12 मिनट तक करवा चौथ का व्रत रखना होगा। व्रत रखने वाली महिलाएं चंद्रमा को जल अर्पित करने के बाद ही जीवनसाथी के हाथ से जल ग्रहण करती हैं। करवा चौथ के व्रत को पूर्ण करने के लिए चंद्रमा का देखना आवश्यक माना जाता है। 4 नवंबर को चंद्रमा के उदय होने का समय शाम को 8 बजकर 12 मिनट पर है। चंद्रमा के उदय होने के साथ ही व्रत रखने वाले चंद्रमा को जल अर्पित कर व्रत को पूरा करते हैं।

Gyan Dairy
Share