आस्ट्रेलिया में बुमराह का चलेगा कहर! जाने स्टीव स्मिथ ने क्या कहा

एजेंसी। दो महीने से चल रहा इंडियन प्रीमियर लीग का 13वां सीजन हाल ही में समाप्त हुआ है। इस बार ​भी मुंबई ने ही ट्राफी पर कब्जा किया और उसके गेंदबाज जसप्रीत बुमराह ने अपनी शॉर्ट पिच गेंदों से तमाम बल्लेबाजों को परेशान किया। अब भारतीय टीम आस्ट्रेलिया दौरे पर पहुंची है जहां बुमराह को लेकर आस्ट्रेलियाई टीम चिंतित नजर आ रही है। आस्ट्रेलिया के मुख्य बल्लेबाजों में शुमार स्टीव स्मिथ ने हालांकि इस तरह चिंताओं को सिरे से नकार दिया है, लेकिन बुमराह की शॉर्ट पिच गेंदों की सफलताओं से आगामी आस्ट्रेलिया दौरे पर एक रोचक प्रतिस्पर्धा की उम्मीद को बढ़ा दिया है।

आईपीएल में बुमराह ने अपनी बाउंसरों से विराट कोहली, देवदत्त पडिकल, निकोलस पूरन, अंबाती रायडू, शिवम दुबे और आंद्र रसेल के विकेट चटकाए। आईपीएल में स्मिथ ने बुमराह की छह गेंदें खेलीं, लेकिन इसमें से एक भी गेंद शॉर्ट पिच नहीं थी। सभी गेंदें गुड लैंग्थ थीं। स्मिथ ने बुमराह की गेंद पर एक मैच में एक चौका और छक्का भी मारा था।

एक अन्य मैच में स्मिथ मुंबई इंडियंस के बुमराह की पहली ही गेंद पर बोल्ड हो गए थे। आस्ट्रेलिया की विकेट पर ज्यादा बाउंस रहता है इसलिए बमुराह निश्चित तौर पर इसका फायदा उठाने की फिराक में होंगे। स्मिथ को न्यूजीलैंड के खिलाफ हुई सीरीज में बाउंसरों से परेशानी हुई थी। बाएं हाथ के नील वेग्नर ने उन्हें जमकर परेशान किया था। कीवी टीम ने स्मिथ के खिलाफ शॉर्ट गेंदों की रणनीति अपनाई थी जो सफल ही थी।

स्मिथ पांच से चार बार इसी तरह की गेंदों पर आउट हुए थे। आस्ट्रेलिया के पूर्व कप्तान हालांकि इस बात से परेशान नहीं हैं। उन्होंने कहा कि वेग्नर के प्रदर्शन को दोहराना आसान नहीं है क्योंकि वह काफी सटीक थे और अपनी तेजी को अच्छे से बदलते थे। स्मिथ ने कहा, “मेरे लिए यह ड्रामा नहीं है।

Gyan Dairy

मैं बस खेल खलेता हूं और स्थिति के हिसाब से ढलता हूं, कि कैसे वो मुझे आउट करने की कोशिश कर रहे हैं और मैं कैसे उनको काउंटर कर सकता हूं। कुछ और टीमों ने भी इसकी कोशिश की है और जिस तरह से वेग्नर ने इस रणनीति को लागू किया था उसकी तुलना में बाकी टीमों को इसको लागू करने में उन्हें परेशानी हुई है।”

उन्होंने कहा, “अगर टीमें मुझे इस तरह से आउट करना चाहती हैं तो यह मेरी टीम के लिए फायदा ही है क्योंकि अगर आप लगातार शॉर्ट गेंदें करते हो तो इसके लिए लोगों को काफी ताकत लगानी पड़ेगी। अगर मुझे अपने जीवन में ज्यादा शॉर्ट पिच गेंदों का सामना करना पड़ा तो मुझे इससे परेशानी नहीं होगी।”

Share