PAK खिलाड़ियों पर भड़के जावेद मियांदाद, बोले- हमारा कोई क्रिकेटर भारत-ऑस्ट्रेलिया जैसी टीम में खेलने लायक नहीं

नई दिल्ली। पाकिस्तान (Pakistan) के पूर्व कप्तान और दिग्गज बल्लेबाज जावेद मियांदाद (Javed Miandad) ने अपने ही क्रिकेट बोर्ड पर जमकर हमला बोला है। मियांदाद का आरोप है कि पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड लगातार ऐसे खिलाड़ियों का बचाव कर रहा है जो लंबे समय से खराब प्रदर्शन करते आ रहे हैं। उन्होंने कहा, वर्तमान टीम का कोई खिलाड़ी ऑस्ट्रेलिया, इंग्लैंड, दक्षिण अफ्रीका, न्य़ूजीलैंड और भारत की टीम में शामिल होने लायक नहीं है।

पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड से पूछना चाहता हूं कि…

जावेद मियांदाद (Javed Miandad) इस दौरान पाकिस्तान (Pakistan) के बल्लेबाजों पर तो जमकर बरसे, लेकिन उन्होंने गेंदबाजों की तारीफ करने में कोई कसर नहीं छोड़ी। मियांदाद ने कहा, ‘मैं पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड से पूछना चाहता हूं कि क्या पूरे पाकिस्तान में ऐसा एक भी बल्लेबाज है जो ऑस्ट्रेलिया, इंग्लैंड, भारत, साउथ अफ्रीका, न्यूजीलैंड जैसी टीमों में किसी खिलाड़ी की जगह शामिल हो सके? हमारा कोई भी बल्लेबाज इन टीमों में नहीं खेल सकता।’

बिना रन बनाए पैसे कैसे ले सकते हैं?

पाकिस्तान (Pakistan) के इस पूर्व बल्लेबाज ने कहा कि हमारे पास ऐसे गेंदबाज जरूर हैं जो किसी भी टीम में जगह बना सकते हैं, लेकिन बल्लेबाजी लाइनअप में ऐसा कोई भी खिलाड़ी नहीं है। ये दुनिया प्रतिदिन के आधार पर चल रही है. आप आज रन बनाइए और पैसे घर ले जाइए। आप कल रन बनाइए फिर से पैसे ले जाइए। आप प्रोफेशनल हैं। अगर आप अपना काम नहीं करते यानी रन नहीं बनाते तो फिर पैसे कैसे ले सकते हैं। ये पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड की जिम्मेदारी है। उसे ये सुनिश्चित करना होगा कि कोई भी राष्ट्रीय टीम को हल्के में लेने की भूल न करे।

Gyan Dairy

20 साल तक खेल सकते हैं, लेकिन परफॉर्म करना होगा

अपने यूट्यूब चैनल पर जावेद मियांदाद (Javed Miandad) ने अहमद शहजाद के उस बयान पर भी टिप्पणी की, जिसमें उन्होंने कहा था कि उन्हें लगता है कि वो और 12 साल तक पाकिस्तान टीम के लिए खेल सकते हैं। इस पर मियांदाद ने कहा, ‘सिर्फ 12 साल ही क्यों, आप 20 साल और खेल सकते हैं, मैं इस बात की गारंटी देता हूं। मगर इसके लिए आपको परफॉर्म करना होगा। अगर आप रोज परफॉर्म करते हैं तो कोई भी आपको टीम से नहीं निकाल सकता। खिलाड़ियों को तभी ड्रॉप किया जाता है जब वे प्रदर्शन के दबाव में बिखर जाते हैं।’

पाकिस्तान में एक शतक लगाकर दस मैच पक्के हो जाते हैं

मियांदाद (Javed Miandad) ने साथ ही कहा कि ऑस्ट्रेलिया और इंग्लैंड जैसी टीमें सीरीज दर सीरीज के हिसाब से चयन करती हैं। उन्हें इस बात से कोई फर्क नहीं पड़ता क आपने पिछली सीरीज में 500 रन बनाए हैं। मगर पाकिस्तान एकमात्र ऐसी टीम है जहां एक शतक लगाने के बाद अगले दस मैचों में आपका खेलना तय हो जाता है। खिलाड़ी लगातार विफल रहते हैं, लेकिन कोई चिंता नहीं होती। यही वजह है कि टीम को इतनी समस्याओं का सामना करना पड़ता है। आप भारतीय टीम का उदाहरण लीजिए। भारतीय बल्लेबाज 70, 80, 100 और 200 रनों को परफॉर्मेंस मानते हैं, लेकिन हमारी टीम का कोई बल्लेबाज दुनिया की शीर्ष टीमों में जगह नहीं बना सकता।  

Share