‘वीरू’ बर्थडे स्‍पेशल : आइए जाने ‘वीरू’ के बारे मे कुछ खास बाते…

भारत के विस्फोटक सलामी बल्लेबाज वीरेंद्र सहवाग का आज (20 अक्टूबर को) जन्मदिन है। 37 वर्षीय वीरू भले ही इस समय टीम इंडिया में नहीं है, लेकिन उनके कई कीर्तिमान दुनियाभर के क्रिकेट प्रेमियों को आज भी याद है। वीरू का टीम इंडिया के साथ एक ऐसा दुर्लभ संयोग है जो दुनियाभर में शायद ही कही मुमकिन होगा। टीम इंडिया द्वारा हर प्रारूप में बनाए सबसे बड़े स्कोर में सबसे ज्यादा योगदान सहवाग का रहा है और ऐसे हर मौके पर टीम इंडिया को जीत मिली है।

virender-sehwag_650x400_81476907434

सलामी बल्लेबाज के रूप में नाम कमाया
फिर टीम में सचिन की वापसी होने के बाद सहवाग को निचले क्रम में बल्लेबाजी करनी पड़ी. लेकिन फिर 2002 में इंग्लैंड के खिलाफ हुई एकदिवसीय सीरीज में सहवाग ने मैचों में गांगुली की जगह सलामी बल्लेबाज के रूप में बल्लेबाजी करने आए और लगातार दो अर्धशतक भी ठोके. अब सलामी बल्लेबाज के रूप में सहवाग नाम कमाते गए और एक सलामी  बल्लेबाज के रूप में अपना जगह पक्‍की की. कभी गांगुली, सहवाग के साथ ओपनिंग करने आते थे तो कभी सचिन. इसी तरह सहवाग ने 251 एकदिवसीय मैच खेलते हुए करीब 35 के औसत से 8273 रन बनाए जिसमे 15 शतक और 38 अर्धशतक शामिल है. वीरेंद्र सहवाग, सचिन के बाद भारत के दूसरे खिलाड़ी थे, जिन्‍होंने एकदिवसीय मैच में दोहरा शतक भी लगाया.

टेस्ट मैचों में मौका
एकदिवसीय मैचों में अच्छा प्रदर्शन की वजह से टेस्ट टीम में उन्हें मौक़ा मिला और साउथ अफ्रीका के खिलाफ अपने करियर का पहला टेस्ट मैच में सहवाग ने शतक ठोकते हुए 105 रन बनाए थे. अब सहवाग पीछे मुड़कर देखने वाले नहीं थे. एकदिवसीय के साथ-साथ टेस्ट में भी अच्छे प्रदर्शन करते गए. सहवाग ने 104 टेस्ट मैच खेलते हुए करीब 49 के औसत से 8586 रन बनाए है जिसमें 23 शतक और 32 अर्धशतक शामिल हैं.

Gyan Dairy

टेस्ट मैच : टीम इंडिया का टेस्ट मैचों में सर्वाधिक स्कोर 9 विकेट पर 726 रन रहा है, जो उसने दिसंबर 2009 में मुंबई में श्रीलंका के खिलाफ बनाया था। इस मैच में टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी करते हुए श्रीलंका ने पहली पारी में तिलकरत्ने दिलशान के शतक (109) की मदद से 393 रन बनाए थे। इसके बाद वीरू ने विस्फोटक पारी खेली, उन्होंने टेस्ट मैचों में वन-डे के लिहाज से बल्लेबाजी कर 254 गेंदों पर 40 चौकों और 7 छक्कों की मदद से 293 रन बनाए। वीरू ने मुरली विजय (87) के साथ पहले विकेट के लिए द्विशतकीय भागीदारी (221) की। कप्तान महेंद्र सिंह धोनी ने भी नाबाद शतक (100) जमाया और भारत ने 9 विकेट पर 726 रन बनाकर पारी घोषित की। इसके बाद श्रीलंका की दूसरी पारी 309 रनों पर समेटकर भारत ने यह मैच पारी और 24 रनों से जीता था।

वन-डे : वन-डे प्रारूप में भारत का सर्वाधिक स्कोर 5 विकेट पर 418 रन है, जो उसने इंदौर के होलकर स्टेडियम में बनाया था। 8 दिसंबर 2011 को वेस्टइंडीज के खिलाफ खेले गए इस मैच में कप्तान वीरेंद्र सहवाग ने 219 रनों की रिकॉर्ड पारी खेली थी। धोनी ने कैरेबियाई गेंदबाजों की धज्जियां बिखेरते हुए 149 गेंदों में 25 चौके व 7 छक्के जड़े थे। उन्होंने उस वक्त वन-डे में सबसे बड़े व्यक्तिगत स्कोर का सचिन तेंडुलकर (200) का रिकॉर्ड तोड़ा था। वीरू ने गौतम गंभीर (67) के साथ पहले विकेट के लिए 176 और सुरेश रैना (55) के साथ दूसरे विकेट के लिए 140 रनों की भागीदारी की थी। भारत के 418/5 के जवाब में इंडीज की पारी 49.2 ओवरों में समाप्त हुई थी और टीम इंडिया ने यह मैच 153 रनों से जीता था।

ट्वेंटी-20 : भारत का अंतरराष्ट्रीय ट्वेंटी-20 क्रिकेट में सर्वाधिक स्कोर 4 विकेट पर 218 रन है, जो उसने 2007 टी-20 विश्व कप में इंग्लैंड के खिलाफ बनाया था। क्रिकेट के सबसे छोटे प्रारूप के पहले विश्व कप के तहत 19 सितंबर 2007 को डरबन में खेले गए मैच में भारत ने टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी करते हुए 218/4 रन बनाए थे। वीरेंद्र सहवाग ने गौतम गंभीर के साथ पहले विकेट के लिए शतकीय भागीदारी (136 रन) कर टीम को ठोस शुरुआत दी थी। वीरू ने 52 गेंदों पर 4 चौकों व 3 छक्कों की मदद से सर्वाधिक 68 रन बनाए। उनके अलावा गंभीर और युवराज सिंह ने 58-58 रनों का योगदान दिया। इसके जवाब में इंग्लैंड 6 विकेट पर 200 रन ही बना पाया और भारत ने यह मुकाबला 18 रनों से जीता था।

Share