blog

एक ऐसा गांव जहां शौचालय बनवाने से डरते हैं लोग, वजह जानकर दंग रह जाएंगे आप

Spread the love

सरकार देश के विकास के लिए दिन-रात प्रयासों में लगी है। लेकिन वहीं बिहार में एक ऐसा गांव भी है जहां आज तक एक भी शौचालय तक नही हैं। जिला मुख्यालय से करीब 300 किमी दूर स्थित नवादा के गाजीपुर गांव में करीब दो हजार लोग रहते हैं। लेकिन महज 25 साल पुराने एक वाकये से लोग शौचालय बनवाने से डरते हैं। गांव के लोगों का कहना है कि 25 सकाल पहले गांव के एक श्रीधेश्वर और एक अन्य परिवार के लोग अपने घर शौचालय बनवा रहे थे, लेकिन उसी दौरान दोनों ही परिवारों लोग एक-एक करके मौत के काल में समा गए। तभी से यह अंधविश्वास लोगों में घर कर गया कि शौचालय बनवाने का मतलब किसी अपने को को देना है।

शिक्षक सतीश ने बताया कि शौचालय तो बन गया, लेकिन आज तक इसका प्रयोग किसी ने नहीं किया। गांव के ही दिलीप कुमार व स्याहदेव सिंह बताते हैं कि घर में शौचालय न होने की वजह से रिश्तेदारों को समस्या होती है, लेकिन उन्हें बताकर नवादा के होटलों में रोका जाता है। गांजीपुर गांव के आसपास के गांवों में कई लोगों के यहां शौचालय बना है। वहां के लोगों ने कई बार गाजीपुर के लोगों को समझाने की कोशिश की, लेकिन डर लोगों के जहन में इतना बस चुका है कि शौचालय बनवाने की कोई जहमत तक नहीं उठाता।

अकबरपुर प्रखंड की पर्तो करहरी पंचायत के गाजीपुर में शौचालय छोड़ अन्य सभी सुविधाएं मौजूद हैं। यहां के कई लोग सरकारी नौकरी में हैं। कोई बिहार पुलिस में है तो कोई इंजीनियर। कई दिल्ली-मुंबई में नौकरी भी करते हैं। गांव की सड़कों की दशा भी ठीक है। बिजली भी 14 घंटे तक आ जाती है। गांव में एक सरकारी प्राथमिक स्कूल भी है, जहां 200 बच्चे पढ़ते हैं। करीब आठ साल पहले इस स्कूल में शौचालय भी बनवाया गया, लेकिन आज तक उसका प्रयोग नहीं किया गया। वहां बच्चे तो बच्चे, स्कूल के शिक्षक भी जाने से डरते हैं।

बीडीओ राधारमण मुरारी ने कहा कि गांजीपुर के लोगों में अंधविश्वास है। अनहोनीके डर से शौचालय का निर्माण नहीं करवा रहे हैं। लेकिन कुछ लोगों ने जागरुक करने के लिए गांव में पहल की है। वहीं केंद्रीय राज्य मंत्री गिरिराज सिंह का कहना है कि यह तो पूरी तरह से अंधविश्वास है। हर घर में किसी न किसी की मौत होती है। यह मामला मेरे संज्ञान में अब आया है। जल्द ही मैं अपने नवादा आऊंगा और गाजीपुर गांव के लोगों से बात करूंगा।

गाजीपुर गांव में शौचालय नहीं होने से कई रिश्ते भी टूट गए हैं। गांव के ही एक परिवार में हाल ही जहानाबाद जिले से आया रिश्ता इस वजह से टूट गया कि उनके यहां शौचालय नहीं बना था। ऐसे कई मामले हुए, फिर भी ग्रामीण शौचालय बनवाने को तैयार नहीं हैं। गाजीपुर के उमाशंकर सिंह ने बताया कि शादी के बाद आने वाली बहुएं शौचालय की मांग रखती हैं, लेकिन हम भी अपनी लाचारी बता देते हैं। इसके बाद वह भी कुछ नहीं बोलती

You might also like