बिहार में कट्टे की जगह एके-47 का ट्रेंड बढ़ा

बिहार में अपराधियों के पास अब देसी कट्टे और बंदूकों को जगह एके 47 ने ले ली है. पिछली कुछ घटनाओं पर नजर डालें तो यह बात साबित होती है. पुलिस विभाग इसे लेकर काफी सतर्क दिख रहा है, क्योंकि यह ट्रेंड काफी खतरनाक है. हाल ही में 18 जनवरी को पूर्वी चंपारण जिले के पकड़ीदयाल थाना क्षेत्र में अपराधियों ने एके 47 से एक कारोबारी पर ताबड़तोड़ फायरिंग की थी, जिसमें दो कारोबारियों सहित तीन लोगों की मौत हो गई थी.

इसके पहले दरभंगा में दो इंजीनियरों की हत्या और फिर राजधानी से सटे कच्ची दरगाह इलाके में लोक जनशक्ति पार्टी (लोजपा) नेता बाहुबली बृजनाथी सिंह पर सरेआम एके-47 से गोलियों की बौछार कर हत्या कर देने के मामले इस बात की पुष्टि करते हैं कि स्थानीय अपराधियों के हाथ में एके-47 जैसे घातक हथियार पहुंच चुके हैं.

बिहार के पूर्वी चंपारण जिले में ही पिछले साल अगस्त महीने में अपराधियों ने पकड़ीदयाल प्रखंड मत्स्यजीवी सहयोग समिति अध्यक्ष भिखारी सहनी के घर पर हमलाकर सहनी सहित चार लोगों की हत्या कर दी थी. कहा जाता है कि इस घटना में भी अपराधियों ने एके-47 का ही इस्तेमाल किया था.

पुलिस विभाग बताया, दरभंगा में दो इंजीनियरों की हत्या मामले में जांच के दौरान यह बात सामने आई थी कि इस हमले में जिस एके-47 का इस्तेमाल किया गया था वह भाड़े (किराए) पर उपलब्ध कराई गई थी. ये हथियार बड़े अपराधी गिरोह छोटे अपराधी को उपलब्ध कराते हैं. दरभंगा के पुलिस अधीक्षक रहने के दौरान राणा ने दोहरे इंजीनियर हत्याकांड में प्रयुक्त हथियार बरामद किया था. गौरतलब है कि बिहार का मुंगेर क्षेत्र अवैध हथियार बनाने के लिए पूरे देश में चर्चित है.

पूर्वी चंपारण जिले के पुलिस अधीक्षक जितेंद्र राणा आईएएनएस को कहते हैं कि 18 जनवरी को दो व्यवसायी सहित तीन लोगों की हत्या के मामले में पांच लोगों को गिरफ्तार किया जा चुका है और जल्द ही हथियार के विषय में भी पुख्ता जानकारी मिल जाएगी.

Gyan Dairy

पुलिस के एक अधिकारी नाम नहीं प्रकाशित करने की शर्त पर बताते हैं कि 2.5 लाख में देसी एके-47 उपलब्ध हो जा रहे हैं. इस बात का खुलासा हाल ही में उत्तर प्रदेश में गिरफ्तार अपराधी से पूछताछ के दौरान हुआ है.

पुलिस के अधिकारी बताते हैं कि एके-47 अपने आप में दहशत का पर्याय है. अपराधी इसे ‘स्टेटस सिंबल’ के रूप में लेते हैं, जिस अपराधी गिरोह के पास एके 47 होता है उसका रुतबा बढ़ जाता है.

कहा जाता है कि एके-47 को चलाना बेहद आसान है. इसे ‘ले मैन’ का हथियार कहा जाता है. कट्टा और बंदूक को चलाने के लिए जहां प्रशिक्षण की जरूरत होती है, वहीं, एके-47 को हर वह शख्स चला सकता है जो इसे उठा सके.

राज्य के अपर पुलिस महानिदेशक (अपराध जांच विभाग) विनय कुमार कहते हैं, ऐसा कोई अध्ययन पुलिस विभाग द्वारा नहीं कराई गई है, परंतु अगर ऐसा है तो यह गंभीर चिंता का विषय है. उन्होंने आशंका जताते हुए कहा कि अपराधी एके-47 नक्सली, अंतराष्ट्रीय अपराधी गिरोह और आतंकी संगठन से हासिल करते हो सकते हैं. पुरुलिया में एके-47 के गिराए जाने की घटना के बाद कई संगठनों तक एके-47 की पहुंच हो गई थी.

Share