UA-128663252-1

बिहार विधानसभा चुनाव: महागठबंधन में टूट तय, NDA में शामिल हो सकती है RLSP

पटना। बिहार में कभी भी विधानसभा चुनावों का ऐलान हो सकता है। इस बीच राजद की अगुवाई वाले महागठबंधन में फूट पड़ चुकी है। पहले जीतनराम मांझी के नेतृत्व वाली हम ने महागठबंधन से किनारा किया और अब पूर्व केंद्रीय मंत्री उपेंद्र कुशवाहा के नेतृत्व वाली राष्ट्रीय लोक जनशक्ति पार्टी (आरएलएसपी) भी महागठबंधन से नाता तोड़ने की तैयारी कर रही है।

आरएलएसपी के महासचिव आनंद माधव ने कहा कि ‘गठबंधन में दलों के बीच कोई भ्रम और उहापोह की स्थिति नहीं रहनी चाहिए। हम चाहते हैं कि आरजेडी आगे आकर गठबंधन के दलों के साथ सभी मुद्दों पर चर्चा करे। अगर कोई कॉमन मिनिमम प्रोग्राम बनाना है तो यह एक-दो दिन का काम नहीं है। चुनाव की अधिसूचना किसी भी दिन जारी हो सकती है, लेकिन अभी तक कॉमन मिनिमम प्रोग्राम के मुद्दे पर कोई बात नहीं हुई है।’

आनंद ने कहा कि आरएलएसपी ने कभी भी तेजस्वी यादव के नेतृत्व क्षमता पर संदेह नहीं जताया है, लेकिन महागठबंधन में चार-पांच दल हैं। ‘दुर्भाग्य से हमारे प्रयासों के बाद भी महागठबंधन में सबकुछ ठीक नहीं है और यह दुखद है। कल हमारी पार्टी की राष्ट्रीय और राज्य कार्यकारिणी की बैठक है। हम वर्तमान स्थिति पर नेताओं के साथ बातचीत के बाद निर्णय लेंगे। हम अपने फैसले लेने के लिए स्वतंत्र हैं।’

Gyan Dairy

पिछले साल हुए लोकसभा चुनाव से पहले आरएलएसपी अध्यक्ष उपेंद्र कुशवाहा ने छोटे दलों के प्रति बीजेपी को अहंकारी बताते हुए केंद्रीय मंत्रिमंडल से इस्तीफा दे दिया था। 2014 लोकसभा चुनाव में एनडीए में रहते हुए आरएलएसपी को तीन सीटें मिली थीं और पार्टी ने तीनों पर जीत दर्ज की थी। हालांकि पिछले लोकसभा चुनाव में महागठबंधन का हिस्सा रहते हुए पार्टी को एक भी सीट पर जीत नसीब नहीं हुई।

Share