सीएम शिवराज सिंह चौहान रात में हुए परेशान तो सुबह इंजीनियर हो गए सस्पेंड

भोपाल। मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान सीधी बस हादसे के बाद मृत 52 लोगों के परिजनों से मिले और रात में सीधी सर्किट हाउस में ही रुक गए। सर्किट हाउस में बदहाली के चलते सीएम शिवराज सिंह चौहान को रात में नींद नहीं आई। बताया जा रहा है कि सर्किट हाउस में मच्छरों की भरमार थी और वहां चारों ओर अव्यवस्था फैली हुई थी। यह देखकर सीएम ने उप-इंजीनियर बाबूलाल गुप्ता को निलंबित कर दिया। सीएम शिवराज सिंह चौहान सर्किट हाउस में अव्यवस्था के शिकार हो गए। कमरे में मच्छर तो थे ही साथ ही वहां पानी की टंकी ओवर फ्लो हो रही थी। इस कोई बंद करने वाला नहीं था। सर्किट हाउस की बदहाली देखकर मुख्यमंत्री ने अधिकारियों की जमकर क्लास भी लगाई।

रीवा संभागीय आयुक्त राजेश कुमार जैन ने शुक्रवार को निलंबन का आदेश जारी करते हुए कहा कि लोक निर्माण विभाग (पीडब्ल्यूडी) के उप-इंजीनियर बाबूलाल गुप्ता को सर्किट हाउस में वीआईपी के रहने के बारे में बताया गया था। इसके बाद भी हमें खराब स्वस्छता, कुप्रबंधन और मच्छरों की शिकायत मिली। प्रोटोकॉल के अनुसार सर्किट हाउस में व्यवस्थाएं नहीं मिली। सब-इंजीनियर बाबूलाल गुप्ता ने जिला प्रशासन की छवि को धूमिल की और निर्देशों का पालन करने में विफल रहे। गुप्ता को मध्य प्रदेश सिविल सेवा अधिनियम 1966 के अनुसार अपने सरकारी कर्तव्यों के निर्वहन में लापरवाही के लिए सस्पेंड किया जाता है।

Gyan Dairy
Share