कोठे पर भूखा रखा गया, और 30 मर्दों ने इस औरत का किया रेप

पेट की भूख इंसान की अक्ल पर कभी-कभी भारी पड़ जाती है. तभी तो लोग नौकरी पाने के चक्कर में किसी के भी झांसे में आ जाते हैं. ख़बरें छपती हैं नौकरी दिलाने के नाम पर ठगी. सऊदी अरब भेजने के नाम पर लाखों ठगे इस तरह की ख़बरें खूब सामने आती हैं. लेकिन बुरी से भी बुरी खबर ये होती है कि नौकरी दिलाने के बहाने लड़की का रेप.

रिपोर्ट के मुताबिक दिल्ली पुलिस, दिल्ली महिला आयोग और एक एनजीओ ने मिलकर दिल्ली के जीबी रोड पर एक कोठे पर रेड डाली. और नेपाली औरत को छुड़ा लिया गया.

रेप छोटा सा शब्द, मगर उसकी हैवानियत सुनकर रोंगटे खड़े हो जाते हैं. एक औरत का फिर रेप हुआ है. जॉब दिलाने के नाम पर ही. रेप एक एक मर्द ने नहीं, बल्कि 30 मर्दों ने औरत का रेप किया. क्योंकि औरत को जॉब के बहाने कोठे पर बेच दिया गया था. पांच महीने से औरत रोजाना एक नए मर्द से खुद को बचाने की कोशिश में लगती थी. मगर नहीं बच पाती थी. औरत को नेपाल से लाया गया था.

छुड़ाई गई औरत का कहना है कि उसे दुबई में नौकरी दिलाने के लिए नेपाल से लाया गया था. मगर उसको दिल्ली के कोठे में बंद कर दिया गया. औरत का कहना है,

Gyan Dairy

नेपाल की ये अकेली औरत नहीं है जिसे छुड़ाया गया हो. आए दिन ख़बरें आती हैं कि इतनी महिलाओं को छुड़ाया. नेपाल की लड़कियों को बहाने से लाकर दिल्ली के कोठों पर बेच दिया जाता है. साल 2015 की बात है जब माइग्रेन्ट नेपाली एसोसिएशन ने महिपालपुर दिल्ली से 40 नेपाली लड़कियों को एक गिरोह से छुड़ाकर वापस नेपाल भिजवाया था.

औरत को कोठे से छुड़ाने के लिए एनजीओ ने मदद की और पुलिस में शिकायत दर्ज कराई. औरत ने जो कहानी बताई उसके आधार पर पुलिस ने उस महिला को पकड़ लिया, जो उससे ज़बरदस्ती वैश्या बनाकर रखे हुए थी. और उसके जिस्म को बेच रही थी. पुलिस ने केस दर्ज आगे की जांच शुरू कर दी है.

लेकिन ये भी है कि नेपाल से भारत में होने वाली मानव तस्करी पर रोक लगाना बहुत मुश्किल है. अनुमान लगाया जाता है कि 5 हजार से 10 हजार लड़कियां और औरतें हर साल इंडिया लाई जाती हैं. ये सब इसलिए हो जाता है क्योंकि भारत और नेपाल की सीमा तकरीबन 1751 किलोमीटर तक आपस में मिली हुई है. इतनी बड़ी सीमा पर नजर रखना किसी सुरक्षा एजेन्सी के लिए मुश्किल काम ही है. लेकिन ऐसा भी नहीं है कि नजर नहीं रखी जा सकती. दिक्कत ये है कि दोनों सीमाओं के बीच फेंसिंग नहीं हुई है. दोनों तरफ के लोगों का आना जाना बेरोक टोक है, वो भी बिना वीजा और पासपोर्ट के ही. इसकी वजह भारत और नेपाल के लोगों के बीच आपसी पारिवारिक रिश्ते होना भी है.

Share