दिवाली पर UP की राजधानी लखनऊ समेत 13 शहरों में पटाखों पर लगा प्रतिबंध, NGT का निर्देश

लखनऊ: भारत के कई राज्यों में इस बार कोरोना और वायु प्रदूषण के चलते दिवाली पर पटाखें जलाने को लेकर प्रतिबंध लगाया गया है. वहीं दिवाली से पहले ही यूपी के कई जिलों में लगातार वायु प्रदूषण बढ़ता जा रहा था, इसी के चलते नेशनल ग्रीन ट्रिब्युनल (एनजीटी) के निर्देश के बाद राजधानी लखनऊ समेत 13 शहरों में पटाखों पर प्रतिबंध लगा दिया गया है. इन शहरों में मुजफ्फरनगर, आगरा, वाराणसी, मेरठ, हापुड़, गाजियाबाद, कानपुर नगर, लखनऊ, मुरादाबाद, नोएडा, ग्रेटर नोएडा, बागपत और बुलंदशहर शामिल हैं.

राजधानी मेें बंद होंगी दुकाने

लखनऊ में पुलिस इसको लेकर काफी सक्रिय नजर आ रही है, पुलिस कमिश्नर सुजीत पांडे ने सभी थाना प्रभारियों को निर्देश दिया है. उन्होंने कहा है कि शहर में पटाखे की सभी दुकानें बंद कराई जाएं. जो लोग नहीं मानते हैं, उनके पटाखों को जब्त किया जाए. दरअसल नेशनल ग्रीन ट्रिब्युनल और मुख्य सचिव के आदेश के बाद पुलिस कमिश्नर ने ये निर्देश जारी किए हैं.

अपर मुख्य सचिव ने जारी किए निर्देश

अपर मुख्य सचिव, गृह अवनीश कुमार अवस्थी ने प्रदेश के सभी मण्डलायुक्त, पुलिस आयुक्त लखनऊ एवं गौतमबुद्धनगर, पुलिस महानिरीक्षक/पुलिस उप महानिरीक्षक परिक्षेत्र, जिला मजिस्ट्रेट, जनपदीय पुलिस उपमहानिरीक्षक/वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक व पुलिस अधीक्षक को आवश्यक निर्देश जारी करते हुये एनजीटी के आदेश का अनुपालन किये जाने के निर्देश दिए हैं.

Gyan Dairy

न्यायालय द्वारा प्रदेश के जिन जनपदों के एयर क्वालिटी इन्डेक्स (एक्यूआई) का उल्लेख किया गया है, उनमें क्रमशः मुजफ्फरनगर (खराब), आगरा, वाराणसी, मेरठ व हापुड़ (बहुत खराब) तथा गाजियाबाद, कानपुर, लखनऊ, मुरादाबाद, नोएडा व ग्रेटर नोएडा, बागपत तथा बुलन्दशहर को (गंभीर) का नाम है. इन स्थानों पर एनजीटी के आदेश का पालन करते हुए दीपावली को मनाने के लिए डिजिटल/लेजर आदि की नई तकनीक का प्रयोग करने के निर्देश दिए गए हैं.

शासन द्वारा जारी निदेर्शों में यह भी कहा गया है कि जिन जनपदों में एक्यूआई मॉडरेट या उससे बेहतर है, वहां केवल ग्रीन क्रेकर्स बेचे जाएं. एनजीटी के वर्तमान और पूर्व के निर्देशों का पालन करते हुए इनको बेंचा/प्रयोग किया जाएगा. इन जनपदों में दीपावली को मनाने के लिए ग्रीन क्रैकर व डिजिटल/लेजर आदि की नई तकनीकी के प्रयोग को आम जन में प्रोत्साहित किया जाय.

दरअसल एनजीटी के आदेश के अनुपालन में कोई पटाखा फोड़ने की अनुमति नहीं होगी. सभी पुलिस स्टेशनों को आदेश के उल्लंघन करने वालों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई के लिए कहा गया है.

Share