ग्लेशियर हादसा: धौली गांव के कई लोगों के बह जाने की आशंका, सुरंग में करीब 50 लोगों के फंसे होने की आशंका

चमोली। उत्तराखंड के चमोली में ग्लेशियर टूटने के बाद बड़ी तबाही मची हुई है। रात में राहत और बचाव कार्य छोड़ा कम हुआ था लेकिन सुबह फिर से ये काम तेजी से शुरू हो गया है। वहीं, 14 शवों के मिलने की पुष्टि हुई है, जबकि 125 से अधिक लोग लापता हैं। वहीं, सुरंगों के पास से मलबा हटाया जा रहा है।

माना जा रहा है कि इनमें काफी लोग फंसे हुए हैं। हादसे में जान गंवाने वाले लोगों के परिजनों के लिए राज्य और केंद्र सरकार ने मुआवजे की घोषणा की है। वहीं, सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत ने मुख्य सचिव को निर्देश दिए हैं कि इसरो के वैज्ञानिकों एवं विशेषज्ञों से इस घटना के कारणों का पता किया जाए, ताकि भविष्य में कुछ एहतियात बरती जा सके।

वहीं, घटना के बाद अन्य जिला प्रशासन की पूरी टीम रविवार से ही क्षेत्र में राहत एवं बचाव कार्यों में लगी है। अन्य जिलों से भी अधिकारी मौके पर भेजे गए हैं, ताकि आपदा ग्रस्त इलाकों में जो शव मिलें, उनकी पहचान और पोस्टमार्टम जल्द हो सके।

Gyan Dairy

एनडीआरएफ के डीजी एसएन प्रधान ने बताया कि ढाई किमी. लंबी सुरंग में राहत बचाव कार्य जारी है। 27 लोगों को जिंदा निकाला गया है। 11 शव बरामद किए गए हैं। वहीं कुल 153 लोग लापता हैं। बताया कि 40 से 50 लोग अभी सुरंग में फंसे हुए हैं। शेष लोगों के मलबे में बह जाने की आशंका है।

 

Share