​हाथरस कांड: पीड़िता से सामूहिक दुष्कर्म की पुष्टि नही

लखनऊ। हाथरस में पीडिता की मौत का कारण उसके साथ हुई बर्बरतापूर्वक मारपीट है।पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट के बाद फोरेंसिंक लैब की रिपोर्ट से इसकी पुष्टि हुई। रिपोर्ट में यह भी कहा गया है कि उसके साथ दुष्कर्म या सामूहिक दुष्कर्म नहीं हुआ था। हाथरस की पीड़िता की दिल्ली के सफदरजंग अस्पताल में इलाज चला जहां पर उसकी मौत हुई थी। एडीजी कानून-व्यवस्था प्रशांत कुमार ने बताया कि हाथरस मामले में फोरेंसिक रिपोर्ट में दुष्कर्म की पुष्टि नहीं हुई है। एडीजी प्रशांत कुमार ने कहा कि हाथरस की इस घटना में कुछ लोगों ने जातीय संघर्ष कराने का प्रयास किया गया है। अब उन्हेंं चिह्नित कर उनके खिलाफ भी कार्रवाई होगी। पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट के मुताबिक, पीडि़ता की गर्दन पर चोट के निशान हैं और रीढ़ की हड्डियां भी टूटी हुई हैं। पीड़िता को ब्लड इन्फेक्शन और हार्ट अटैक भी आया था।

गौरतलब है 14 सितंबर को हाथरस के चंदपा थाना क्षेत्र के एक गांव में 19 वर्षीय लड़की के साथ क्रूरता की गई। इसके बाद पहले उसे अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय के जवाहरलाल नेहरू मेडिकल कॉलेज में भर्ती कराया गया और सोमवार को दिल्ली के सफदरजंग अस्पताल में शिफ्ट किया गया, जहां पर उसने मंगलवार को दम तोड़ दिया।

Gyan Dairy
Share