आर्ट्स टॉपर घोटाला : भाजपा की साजिश, जवाहर प्रसाद और सुशील मोदी ने मिलकर रचा चक्रव्यूह

बिहार इंटर आर्ट्स टॉपर मामले ने अब बड़ा राजनीतिक रंग ले लिया है. जदयू प्रवक्ता व विधान पार्षद संजय सिंह इस पूरे मामले में भाजपा के वरिष्ठ नेता सुशील मोदी पर बड़ा हमला बोला है. उन्होंने आरोप लगाया है कि फर्जी टॉपर मामला बिहार को बदनाम कराने की साजिश है और भाजपा ने इस खेल को सुशील मोदी के इशारे पर रचा है. उन्होंने कहा है कि भाजपा अपनी राजनीति चमकाने के लिए इस कदर तक गिरेगी, इसका अंदाजा आज हो गया है.

उन्होंने कहा कि इस कॉलेज के प्रिंसिपल है जवाहर प्रसाद सिंह के पुत्र अभितेंद्र कुमार सिंह. ताजपुर के चकहबीब के इस कॉलेज से ही गणेश ने टॉप किया था, कहा ये जाता है कि ये कॉलेज डिग्री देने की फैक्ट्री है. कोई भी इस कॉलेज में जाकर पैसे देकर डिग्री ले सकता है. झारखण्ड से आये गणेश को इस कॉलेज से फ़ार्म भराया गया और टॉप भी करा दिया गया.

संजय सिंह ने कहा है कि भाजपा नेता जवाहर प्रसाद सिंह के साथ मिलकर सुशील मोदी ने ये चक्रव्यूह रचा है. जिसको प्रशासन ने खोलकर रख दिया है. सुशील मोदी इस खेल के किंगपिन है. भाजपा नेता जवाहर प्रसाद सिंह, रामनंदन सिंह जगदीश नारायण इंटर कॉलेज के सचिव हैं और पार्टी के पुराने नेता हैं. सुशील मोदी के बेहद करीबी जवाहर प्रसाद सिंह 1985 और 1990 में कल्याणपुर से भाजपा की टिकट पर चुनाव भी लड़ चुके हैं. सुशील मोदी और जवाहर प्रसाद सिंह ने मिलकर ये योजना बनाई है ताकि बिहार की छवि पर धक्का लगे.

Gyan Dairy

जदयू प्रवक्ता ने सवाल किया है कि सुशील मोदी बतायें कि किसने बिहार की छवि को बदनाम करने की कोशिश की है? बिहार की जनता को पूरी तरह से जानने का हक़ है. सुशील मोदी और जवाहर प्रसाद सिंह ने मिलकर जिस तरह से इस घटना को अंजाम दिया है उससे तो कहा ही जा सकता है कि ये शातिरों का काम है. क्या सुशील मोदी जवाहर प्रसाद सिंह को इसके लिए सम्मानित करेंगे?

Share