मिलाद-उन-नबी के जुलूस में तेज़ आवाज़ डीजे की वजह से छात्र की मौत

रांची : ईदमिलाद-उन-नबी के जुलूस में डीजे रहेगा, पर वो ईको होगा और ही उसकी आवाज तेज की जाएगी। यह बातें सुन्नी बरेलवी सेंट्रल कमेटी के संरक्षक मो. सईद और सदर मौलाना जसीमउद्दीन खान अंबर ने बताईं। वे कमेटी की जश्न ईद मिलाद के जुलूस की तैयारी के सिलसिले में इस्लामी मरकज में हुई बैठक में बोल रहे थे। गौरतलब है कि पिछली बैठक में एदार-ए-शरिया के नाजिम आला मौलाना कुतुबुद्दीन रिजवी ने कहा था कि डीजे जुलूस में नहीं बजेगा, जिसका सभी ने समर्थन किया था।

मीडिया रिपोर्टों के मुताबिक 16 वर्षीय छात्र, जो मिलाद-उन-नबी जुलूस को देखते वक्त गिर गया और फिर मंगलवार को हॉस्पिटल में उसकी मौत हो गयी, उसके माता पिता ने आरोप लगाया है कि उसकी मौत तेज़ और असहनीय आवाज़ वाले डीजे के कारण हुयी है।

“सोमवार को अंजुमन-ए-इस्लाम पीरबोय कॉलेज का छात्र अंसारी मुहम्मद उमेर सेंट्रल मुंबई में झूला मैदान के पास सड़क किनारे खड़ा जुलूस देख रहा था। अचानक उसे पसीने आने लगे और वह गिर गया”, उर्दू रोजनाम अखबार ने बुधवार को खबर दी।

Gyan Dairy

“बेहोशी की हालत में उमेर को फ़ौरन पास के क्लिनिक ले जाया गया और उसके बाद मुंबई के जेजे हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया। डॉक्टर ने उसे बचाने की बेहद कोशिश की, लेकिन वह उसे बचा नहीं पाए और मंगलवार को उसकी मौत हो गयी”, मुहम्मद अमीन अंसारी ने अखबार को बताया।

“डॉक्टर और सीटी स्कैन की रिपोर्ट के मुताबिक उसकी मौत तेज़ और असहनीय आवाज़ वाले डीजे के कारण हुयी है”, अमीन अंसारी ने कहा।

Share