MP : तलाक मांगने कोर्ट पहुंची महिला से जज बोले – पहले करवा चौथ मनाओ

भोपाल। मध्यप्रदेश (MP) के भोपाल में पति पर आरोप लगाते हुए तलाक की अर्जी लेकर फैमिली कोर्ट पहुंची महिला को जज ने दिलचस्प सलाह दी। दरअसल एक महिला ने फैमिली कोर्ट में तलाक की याचिका दायर करते हुए कहा कि उसने एक ही शर्त पर शादी करने की हां की थी कि वह अपनी पढ़ाई जारी रखेगी। शादी से पहले तो ससुराल वालों ने हां कर दी, लेकिन शादी के बाद पढ़ाई बंद करा दी। इसको लेकर पति-पत्नी के बीच विवाद इतना बढ़ा कि मामला तलाक तक पहुंच गया।

फैमिली कोर्ट ने दोनों पक्षों को काउंसलिंग के लिए भेजा। काउंसलिंग में पति और उसकी मां (सास) पहुंचे और दोनों ने बहू पर कई आरोप लगाए। इसके बाद काउंसलर नुरुनिशा खान ने महिला को समझाया और मामले की पूरी जानकारी जज को दी। जब कोर्ट में सुनवाई होने लगी तो कोर्ट ने महिला से कहा कि पहले करवाचौथ मनाकर आओ औऱ उसके बाद अपनी पूरी रिपोर्ट कोर्ट में दर्ज करना। अब मामले की अगली सुनवाई 11 नवंबर को होगी। महिला काउंसलिंग सभागार से ही मंगलवार को पति और सास के साथ चली गई। काउंसलर ने बताया कि ऐसे कई सामने आए जब पति, बहू और सास तीनों भावुक हुए और सास नहीं चाहती कि उसके बेटे का परिवार टूटे।

महिला ने आरोप लगाया कि उसका रिश्ता लेकर ससुराल वाले आए थे, उस समय वह पढ़ाई कर रही थी। पति रायसेन नगरपालिका में क्लर्क है। पति 12वीं पास है जबकि पत्नी ने स्नातक की पढ़ाई की हुई है। महिला ने कहा कि मेरे माता-पिता ने 12वीं पास लड़के से इसलिए शादी करा दी क्योंकि उसकी सरकारी नौकरी थी।

Gyan Dairy

महिला ने बताया कि शादी तय होने के दौरान मैंने साफ कह दिया था कि मैं आगे पढ़ाई करूंगी और नौकरी भी करूंगी। तब इस पर सभी ने सहमति भी जताई थी। महिला ने बताया कि वह शादी के दौरान वकालत की पढ़ाई कर रही थी लेकिन बाद में पति और सास ने मेरी पढ़ाई रुकवा दी। महिला नौकरी करना चाहती थी लेकिन पति नहीं चाहता था कि वह घर से बाहर निकले। इसे लेकर विवाद इतना बढ़ा कि मारपीट तक की नौबत आ गई।

Share