पीएम बनना चाहती हैं ममता बनर्जी? कहा- बंगाल चुनाव जीतने के बाद होगा दिल्ली पर लक्ष्य

पीएम मोदी और बंगाल की सीएम लगातार एक दूसरे पर हमलावर नजर आते हैं। पश्चिम बंगाल में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के आसोल पोरीबोर्टन (वास्तविक परिवर्तन) के आह्वान पर पलटवार करते हुए, तृणमूल कांग्रेस सुप्रीमो ममता बनर्जी ने कहा कि वह केंद्र में भारतीय जनता पार्टी की अगुवाई वाली सरकार को बदल देंगी। उन्होंने कहा कि बंगाल विधानसभा चुनाव जीतने के बाद दिल्ली का लक्ष्य बनाएंगी।

ममता बनर्जी ने पश्चिम मिदनापुर जिले के खड़गपुर में एक चुनावी रैली को संबोधित करते हुए कहा, “पोरिबोर्टन (परिवर्तन) हमारा नारा था। उन्होंने इसकी नकल की है। इसके बाद हम दिल्ली में परिवर्तन लाएंगे। बंगाल चुनाव जीतने के बाग हम दिल्ली का रुख करेंगे।”

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पश्चिम बंगाल में ‘आसोल पोरीबोर्टन’ का नारा बुलंद किया। आपको बता दें कि यहां 27 मार्च से आठ चरणों में विधानसभा चुनाव होने वाले हैं। भाजपा ने विधानसभा की 294 सीटों में से 200 से अधिक सीटें जीतने का लक्ष्य रखा है, जबकि टीएमसी लगातार यह कह रही है कि बीजेपी को 100 सीटें भी नहीं मिलेंगी।

ममता बनर्जी ने कहा, “वे जानते हैं कि अगर ममता बंगाल में जीतती हैं तो यह उनके लिए एक बड़ा खतरा होगा क्योंकि वह दिल्ली आ सकती है और अन्य दलों के साथ एक वैकल्पिक तीसरा मोर्चा बना सकती हैं।”

Gyan Dairy

2019 के लोकसभा चुनावों से पहले ममता बनर्जी ने केंद्र में सत्तारूढ़ भाजपा को चुनैती देने के लिए क्षेत्रीय दलों के मोर्चे को एक साथ जोड़ने की कोशिश की थी। टीएमसी सुप्रीमो, जो आरोप लगाती रही हैं कि बंगाल के बाहर से बीजेपी समर्थित गुंडे चुनावों में धांधली करने आ रहे हैं, उन्होंने टीएमसी कार्यकर्ताओं के लिए तीन सूत्रीय जांच सूची भी तैयार की है।

रैली के दौरान उन्होंने कहा, “अगर आपको बताया जाता है कि EVM खराब है तो उसे वापस नहीं जाने दें। मॉक पोल के बाद कम से कम दो बार मशीन को बंद करें और ऑन करें। ताकि यह सुनिश्चित हो सके कि कोई धांधली न हो। चुनाव के बाद, स्ट्रंग रूम के बाहर गार्ड खड़े रहते हैं जहां ईवीएम रखे जाते हैं। ईवीएम की रखवाली करने वाली टीम को किसी अजनबी से भोजन ग्रहण करने और स्थानांतरित करने की अनुमति नहीं देनी चाहिए। उन्हें किसी भी परिस्थिति में मौके को नहीं छोड़ना चाहिए। वहीं पर खाना बनाएं और वहीं खाएं।”

 

Share