2018 में BJP को रोकने के लिए ज्योतिरादित्य सिंधिया कांग्रेस का CM चेहरा होगें

मध्य प्रदेश में होने वाले विधानसभा चुनावों के लिए ज्योतिरादित्य सिंधिया कांग्रेस का चेहरा होगें जल्द ही इसकी अधिकारिक घोषणा हो सकती है. उन्हें प्रदेश के मुख्यमंत्री के तौर पर प्रोजेक्ट किया जाएगा है साथ ही फ्री हैंड देते हुए टिकट बांटने की जिम्मेदारी भी सौंपी जाने की खबर है.

उत्तर प्रदेश में मिली करारी हार की समीक्षा के लिए आयोजित इस बैठक में सोनिया गांधी, राहुल गांधी, मोतीलाल बोरा, सुरेश पचैरी, अशोक गहलोत, शीला दीक्षित, अंबिका सोनी, मनीष तिवारी,कमलनाथ, कैप्टन अमरिंदर सिंह और नवजोत सिंह सिद्धू सहित अन्य वरिष्ठ नेता मौजूद थे.

सूत्रों की मानें हाल ही में राहुल गांधी के बंगले पर आयोजित की गई कांग्रेस हाईपॉवर कमेटी की बैठक में यह निर्णय लिया गया. आपको बादा दें अटेर उपचुनाव में कांग्रेस को मिली जीत के बाद ज्योतिरादित्य सिंधिया को प्रदेश का सीएम चेहरा घोषित करने की मांग ने और तेजी से जोर पकड़ लिया है. लोग नारा दे रहे है ‘न बीजेपी न शिवराज अपकी बार महाराज’.

बैठक में यह निष्कर्ष निकला कि उत्तर प्रदेश में पार्टी का कोई चेहरा न होने और सपा से गठबंधन हार का कारण. जबकि पंजाब में कैप्टन अमरिंदर सिंह के नेतृत्व में चुनाव लड़ने पर पार्टी को पूर्ण बहुमत मिला.

Gyan Dairy

मध्य प्रदेश में ज्योतिरादित्य सिंधिया एक मात्र ऐसे नेता हैं जो निर्विवाद होने के साथ ही हर वर्ग के चहेते हैं. युवाओं की पहली पसंद बने हुए हैं. लंबे अर्से से प्रदेश वासी सिंधिया को सीएम प्रोजेक्ट करने की मांग कर रहे थे.

इसी को आधार बनाते हुए मप्र में सत्ता हासिल करने और गुटबाजी को समाप्त करने के लिए ज्योतिरादित्य सिंधिया को मुख्यमंत्री पद का प्रत्याशी घोषित करने का निर्णय लिया गया. कैप्टन अमरिंदर सिंह ने सिंधिया के नाम का प्रस्ताव रखा और मोतीलाल बोरा ने समर्थन किया.

कांग्रेस के बड़े नेताओं ने यह भी स्वीकार किया कि पिछले चुनाव में दिग्विजय सिंह, कांतिलाल भूरिया, अजय सिंह सहित अन्य नेताओं की मिली भगत के कारण सिंधिया को आगे न करपाना बड़ी भूल थी. जिसका परिणाम सबके सामने हैं लेकिन अब देरी करना और भी खतरनाक हो सकता है.

Share