मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने स्मार्ट सिटी का उड़ाया मजाक

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने केंद्र में भाजपा नीत राजग सरकार के छोटी राशि करीब 500 करोड़ रुपये की लागत से पांच सालों में स्मार्ट सिटी बनाने के कार्यक्रम का उपहास उड़ाते हुए शनिवार को कहा कि उनकी सरकार ने स्मार्ट विलेज बनाने का कार्यक्रम की शुरूआत की है.

नीतीश ने कहा कि उनकी सरकार की अगले चार साल के दौरान स्मार्ट विलेज बनाने के लिए सात निश्चय कार्यक्रम के तहत हर घर को बिजली कनेक्शन, शौचालय, पेयजल और हर गली और नाले के पक्कीकरण की योजना है.

अपनी चौथे चरण की निश्चय यात्रा के क्रम में सहरसा में शनिवार को एक चेतना सभा को संबोधित करते हुए नीतीश ने कहा कि उन्हें नहीं पता की पांच साल की अवधि में मात्र 500 करोड़ रुपये की राशि से कैसे सिटी का निर्माण किया जाएगा.वैसे भी यह केंद्र सरकार की योजना है.

नीतीश बिहार में शराबबंदी और सात निश्चय को लागू करने को लेकर क्षेत्रवार लोगों की राय प्राप्त करने के लिए गत 9 नवंबर से निश्चय यात्रा पर निकले हैं. उन्होंने कहा कि जब बिहार के प्रत्येक गांव के लोग स्मार्ट हो जाएंगे तो कौन बेहतर नागरिक सुविधा के लिए शहर की ओर जाएगा.

Gyan Dairy

नीतीश ने बिहार में शराबबंदी का जिक्र करते हुए उसके आर्थिक और सामाजिक लाभ की चर्चा करते हुए शराब के कारोबार में बड़े पैमाने पर बेनामी संपत्ति के इस्तेमाल का दावा करते हुए कहा कि वे इसी कारण से कालेधन के खिलाफ नोटबंदी के तहत बेनामी सम्पत्ति पर प्रहार पर जोर दे रहे हैं. उन्होंने महिलाओं से बिहार में पूर्णशराबबंदी के बावजूद शराब के अवैध करोबार में संलिप्त रहने तथा किसे के शराब के विकल्प के तौर पर अफीम का इस्तेमाल किए जाने पर कड़ी नजर रखने पर जोर दिया और ऐसे लोगों को प्रत्येक जिला में बनाए गए नशामुक्ति केंद्र लाने को कहा.

बिहार के वरिष्ठ मंत्री बिजेंद्र प्रसाद यादव, चंद्रशेखर और पुलिस महानिदेशक पी के ठाकुर की उपस्थिति में चेतना सभा को संबोधित करते हुए नीतीश ने अपनी सरकार द्वारा सात निश्चय के तहत युवाओं और महिलाओं के उत्थाना के लिए भी उठाए गए कदम की चर्चा की.

Share