नीतीश कुमार की बड़ी कार्रवाई, राज्यसभा में शरद यादव की जेडीयू के नेता पद से छुट्टी

जदयू नेता शरद यादव के बगावती सुर को देखते हुए पार्टी ने उनपर बड़ी कार्रवाई की है। जेडीयू ने शरद यादव को राज्‍यसभा में पार्टी के नेता पद से हटा दिया है। इस बारे में पार्टी की तरफ से उपराष्‍ट्रपति वेंकैया नायडू को पत्र सौंपा गया है। पार्टी ने शरद यादव की जगह आरसीपी सिंह को राज्यसभा में अपना  नेता चुना है। आज  जेडीयू के सात राज्य सभा सांसदों, दो लोक सभा सांसदों और राष्ट्रीय महासचिव संजय झा ने सुबह दस बजे उपराष्ट्रपति एम वेंकैया नायडू से मुलाकात कर पार्टी की ओर से पत्र सौंपा है।

जनता दल यूनाईटेड जदयू के वरिष्ठ नेता और पार्टी के पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष शरद यादव ने वर्तमान समय को अपने राजनीतिक जीवन का चुनौतीपूर्ण समय बताया और कहा कि अब तो यह देखना है कि मंजिल किसे मिलती है। श्री यादव ने शुक्रवार देर शाम यहां आयोजित लोक संवाद कार्यक्रम में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार का नाम लिए बगैर उनपर बड़ा हमला करते हुए कहा कि इस समय बिहार में दो जनता दल है, एक सरकारी जनता दल और दूसरा आम जनता का जनता दल।

इस तरह शरद यादव की राज्यसभा में नेता पद से छुट्टी कर दी गई है। आपको बता दें कि  राज्यसभा में जेडीयू के दस सांसद हैं, इनमें कल अली अनवर भी निलंबित किए जा चुके हैं और अब शरद यादव पर भी पार्टी ने ये बड़ी कार्रवाई की है।

Gyan Dairy

शरद का इशारा नीतीश कुमार और उनके साथ देने वाले लोगों के लिए सरकारी जनता दल जबकि उनके साथ चल रहे लोगों को जनता का जनता दल’ की तरफ था। उन्होंने कहा कि आने वाला समय चुनौतीपूर्ण है और देखना है मंजिल किसे मिलती है। सांसद ने पार्टी पर आरोप लगाते हुए कहा कि उनके कार्यक्रम में शाामिल होने से पार्टी के कार्यकर्ताओं और नेताओं को रोका जा रहा है और उन्हें पार्टी से निकालने की धमकी दी जा रही है। उन्होंने पार्टी को चुनौती देते कहा कि कितने को निकालोगे। निकालते-निकालते थक जाओगे, उम्र खत्म हो जाएगी लेकिन जनता अपना पुरुषार्थ दिखा कर फिर लड़ेगी।

उन्होंने इस तरह की धमकी देने वाले नेताओं को धन्यवाद देते हुए कहा, मैं महागठबंधन से पार्टी के अलग होने के फैसले से दुखी हॅूं और इस मुद्दे पर अकेले ही जनता के पास जाऊंगा।

Share