एक विवाह ऐसा भी जहां महंगे गिफ्ट की जगह तोहफे में मिला नेत्रदान और देहदान का वादा

अक्सर शादी समारोह में नव दंपतियों को लोग महंगे उपहार देकर सुखमय जीवन की शुभकामनाएं देते हैं, लेकिन मध्य प्रदेश के इंदौर में हुए एक वैवाहिक समारोह में लोगों ने मृत्यु उपरांत नेत्रदान और देहदान के संकल्प पत्र सौंपे. दोनो ही नवदंपति यामिनी सोनवने और वैभव जैन पेशे से डॉक्टर हैं और दोनों ही मरीजों के इलाज के साथ समाज सेवा का काम करते रहे.

यह ऐसा समारोह था जिसमें व्यंजनों के स्टॉल के साथ आई बैंक का स्टॉल भी लगाया गया था. एम. के. इंटरनेशनल आई बैंक फाउंडेशन के सह कार्यकारी निदेशक अरुण चौधरी ने कहा कि उनके जीवन का यह पहला मौका है जब किसी नवदंपति के विवाह समारोह में इस तरह की पहल की गई हो. विवाह समारोह में शामिल होने आए 150 लोगों ने नेत्रदान और 15 लोगों ने मृत्यु उपरांत देहदान का संपल्प पत्र भरा.

उन्होने बताया जब दोनों का रिश्ता तय हुआ तो उन्होंने किसी से भी उपहार न लेने का फैसला किया. साथ ही यह भी तय किया कि जिस भी व्यक्ति को वे अपने वैवाहिक समारोह में आमंत्रित करेंगे, उससे एक संकल्प पत्र जरूर भरवाने की कोशिश करेंगे, जिसमें नेत्रदान और देहदान प्रमुख होगा.

Gyan Dairy

वैभव का कहना है कि वे चिकित्सा के साथ महिला सशक्तिकरण, बाल विकास सहित अनेक सामाजिक कार्यों में भी हिस्सा लेते हैं. उसी क्रम में उन्होंने अपनी जीवन संगिनी यामिनी के साथ तय किया कि अपने विवाह समारोह में वे कोई उपहार नहीं लेंगे, बल्कि समाज में नेत्रदान और देहदान के प्रति जागृति लाने की कोशिश करेंगे. यामिनी और वैभव की पहल की चर्चा हर तरफ है, क्योंकि उन्होंने अपने दाम्पत्य जीवन की शुरुआत करते हुए लोगों से अपने लिए नहीं बल्कि समाज के लिए कुछ मांगा.

Share