UA-128663252-1

स्वर्ण भारत परिवार के राष्ट्रीय अध्यक्ष पीयूष पण्डित पहुंचे सीधेश्वर आश्रम

उत्तरप्रदेश के सात दिवसीय यात्रा का शुभारम्भ, लिया दण्डी स्वामी हँसआश्रम से आशीर्वाद

स्वर्ण भारत की सेवानीति के तहत शुरू हुई उत्तरप्रदेश की यात्रा का पहला दिन महावीरन दण्डी स्वामी आश्रम के नाम रहा, स्वर्ण भारत परिवार के राष्ट्रीय अध्यक्ष पीयूष पण्डित के आश्रम पहुचने की खबर से समर्थकों की भीड़ लग गई। आश्रम की सुविधाओं व प्रकल्पों पर विशेष चर्चा हुई, आश्रम गुरु आंनद जी महाराज ने पीयूष पण्डित के सेवानीति के कार्यों की प्रशंशा की व गौ सेवा, वैदिक शिक्षा, सामाजिक कार्यों में बढ़ चढ़कर हिस्सा लेने हेतु शुभकानाओं के साथ आशीर्वाद से अभिसिंचित किया।

महावीरन आश्रम में गौ माता की विशेष सेवा होती है जो बिल्कुल साफ सुथरे माहौल में रहती हैं। अभी 50 की संख्या में गौ माता व गौ वंश है, वैदिक शिक्षा में कोरोना का प्रभाव देखने को मिला, सौ से अधिक बच्चो में से 25 विद्यार्थी उपस्थित रहे। नए भवनों का निर्माण देखने ही बनता है, गेस्ट हाउस व भगवान शंकर के चबूतरे पर ग्रेनाइट के पत्थर व टाइल्स का कार्य चल रहा है। आश्रम के नवीनीकरण हेतु हँसा दण्डी स्वामी (पीयूष पण्डित के पिता) ने आम जनमानस से अपील की। आश्रम प्रमुख गुरु देव ने विस्तृत जानकारी देते हुए कर्म, धर्म, पर विशेष ध्यान देने की युवाओं को जरूरत पर जोर दिया। इस मौके पर स्वर्ण भारत के सचिव नीरज पांडे, लीगल एडवाइजर रंजीत पांडेय, जिला अध्यक्ष आकाश शुक्ला, आशुतोष शुक्ल, डीडी डॉन उपस्थित रहे । आश्रम सेवक पीयूष पण्डित आश्रम के समस्त प्रकल्पों को और बेहतर बनाने हेतु प्रयासरत हैं ।

Gyan Dairy

दंडी स्वामी श्री सिधेश्वर आश्रम महावीरन कालाकांकर की महिमा अपरम्पार : पीयूष पण्डित

पियूष पंडित का कहना है कि सेवानीति की अगर झलक देखनी हो तो आएं आश्रम जहां गौ सेवा, समाज सेवा व वैदिक ज्ञान का संगम ऊपर से गुरु देव का आशीर्वाद भरा आशीर्वचन भक्तों को आश्रम में शांति का मार्ग दिखाता है। शुद्ध वातावरण, भगवान शंकर के शिवलिंग, बेलपत्रों व पीपल की छाया, गौ वंशों में तीनों लोक के दर्शन आसानी से होते हैं। प्राचीन समय से बहुत सी कथाएं आश्रम की प्रचलित हैं, पर अब युवाओं को सत्मार्ग पर लाने के लिए विशेष कार्यक्रम भी चलाएं जा रहे है। आश्रम आज भी भारतीय संस्कृति के रक्षक के रूप में वैदिक शिक्षण की अद्भुत ज्ञान गंगा आश्रम में प्रवाहित है।

Share