UA-128663252-1

राजस्थान हाईकोर्ट: बाहरी राज्यों से विवाह कर लाई गयी बहुओं को पंचायत चुनाव और सरकारी नौकरी में ​नही मिलेगा आरक्षण

जयपुर। राजस्थान हाईकोर्ट ने आज एक बड़ा फैसला सुनाया है। कोर्ट ने कहा है कि दूसरे राज्यों विवाह करके राजस्थान में लायी जाने वाली बहुओं या अन्य व्यक्तियों को राज्य की सरकारी नौकरियों और पंचायत चुनावों में कोई आरक्षण का लाभ नहीं दे सकते। चाहे वे अपने प्रदेश में भी समान आरक्षित वर्ग में ही क्यों न रहे हों। साथ ही अदालत ने राज्य सरकार को अन्य सरकारी योजनाओं को लेकर प्रवासियों को जारी किए जाने वाले जाति प्रमाण पत्र में यह अंकित करने के लिए कहा है कि वह सरकारी नौकरियों व चुनाव लड़ने के लिए मान्य नहीं होगा।

जस्टिस एसके शर्मा ने यह आदेश प्रेमदेवी व अन्य की याचिकाओं को खारिज करते हुए दिया। अदालत ने कहा कि राज्य के बाहर से आने वालों को केवल सरकारी योजनाओं में सीमित दायरे के लिए ही जाति प्रमाण पत्र जारी कर सकते हैं। हालांकि राज्य सरकार पूर्व में खंडपीठ के आदेशानुसार दूसरे प्रदेश से विवाह कर राजस्थान में आई महिलाओं को जाति प्रमाण पत्र जारी करने के लिए बाध्य है, लेकिन यह लाभ सरकारी नौकरियों व चुनाव के लिए न होकर केवल अन्य सीमित काम के लिए ही हो।

अधिवक्ता एमएस राघव ने बताया कि इन महिलाओं का जन्म दूसरे राज्यों में हुआ था और उस राज्य में वे एससी व ओबीसी वर्ग में थीं। उनकी शादी राजस्थान में होने के बाद यहां पर भी वे समान आरक्षित वर्ग में ही थीं लेकिन उन्हें पंचायत चुनाव लड़ने के लिए सक्षम अधिकारी ने जाति प्रमाण पत्र जारी करने से इनकार कर दिया। इसलिए उन्हें पंचायत चुनाव सहित अन्य सरकारी लाभ के लिए जाति प्रमाण पत्र जारी करने का निर्देश दिया जाए।

Gyan Dairy

वहीं राज्य सरकार ने दलील दी कि सुप्रीम कोर्ट कह चुका है कि आरक्षण का लाभ प्रदेश के मूल निवासियों को ही दिया जा सकता है। चाहे फिर वो व्यक्ति दोनों राज्यों में एक ही आरक्षित वर्ग में ही क्यों न आता हो। इसलिए राज्य के पंचायत चुनाव सहित सरकारी नौकरियों में एससी व ओबीसी वर्ग में आरक्षण का लाभ लेने के लिए दूसरे प्रदेश से शादी कर राजस्थान आई बहुओं सहित अन्य लोगों को आरक्षण का लाभ नहीं दे सकते। अदालत ने राज्य सरकार की दलीलें सुनने के बाद याचिकाओं को खारिज करते हुए राज्य सरकार को कहा कि वह सीमित लाभ के लिए ही उन्हें जाति प्रमाणपत्र जारी करे।

Share