राजस्थान में नया साल मनाने वालों को लगा झटका, न्यू ईयर पर होने वाली आतिशबाजी पर लगी रोक

जयपुर: राजस्थान में नया साल मनाने वालों को करारा झटका लगा है। राजस्थान सरकार ने कोरोना संक्रमण को रोकने के लिए एक और अहम फैसला किया है। इस बार दीपावली की तरह ही नए साल के जश्न के दौरान भी आतिशबाजी नहीं हो पाएगी। न्यू ईयर सेलिब्रेशन के दौरान किसी भी तरह की आतिशबाजी पर सरकार ने रोक लगा दी है।

अशोक गहलोत ने सोमवार को कोरोना समीक्षा बैठक में यह फैसला लिया, जिसमें कहा गया की कोरोना पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले की सख्ती से पालना किया जाएगा।

बैठक के बाद सीएम ने ट्वीट कर कर कहा कि #COVID19 समीक्षा एवं कोरोना वैक्सीन की तैयारियों से संबंधित बैठक में निर्णय लिया है कि कोरोना महामारी के समय में स्वास्थ्य को सर्वोपरि रखते हुए दीपावली पर सरकार ने जो कदम उठाए थे, उसी प्रकार का सख्त निर्णय नव वर्ष के लिए लेने का फैसला किया है। प्रदेशवासी नए वर्ष का जश्न अपने घर में परिवार के साथ मनाएं, भीड़भाड़ से बचें और आतिशबाजी न करें। यह स्वयं के एवं दूसरों के स्वास्थ्य के लिए जरूरी है। सुप्रीम कोर्ट के कोरोना को लेकर सभी राज्यों के लिए जो निर्देश आए हैं, राजस्थान उनकी कड़ाई से पालना करेगा।”

Gyan Dairy

दरअसल, दीपावली पर भी राजस्थान में अशोक गहलोत सरकार ने पटाखों की बिक्री और फोड़ने पर रोक लगा दी थी, जिसका कोरोना संक्रमित मरीजों की सेहत पर काफी सकारात्मक असर भी देखने को मिला। ऐसे में डॉक्टरों के पटाखों से होने वाले प्रदूषण की बढती संभावनाओं और कोरोना संक्रमित मरीजों की सेहत पर पड़ने वाले बुरे प्रभाव के चलते नव वर्ष पर भी रोक लगा दी गयी है।

ब्रिटेन में कोरोना के नए रूप ने देश की धड़कन तेज करने के साथ अशोक गहलोत की चिंताओं को भी बढ़ा दिया है। उन्होंने ब्रिटेन में मिले कोरोना के नए स्ट्रेन को लेकर ट्वीट करते हुए कहा, ‘यूनाइटेड किंगडम में कोरोना के नई स्ट्रेन की खबर काफी चिंताजनक है। भारत सरकार को इस मामले में तुरंत एक्शन लेना चाहिए और UK, अन्य यूरोपीय देशों से आने वाली फ्लाइट तुरंत बैन करनी चाहिए।’

Share