शिवराज सरकार भी बनाएगी लव जिहाद पर कानून, हरियाणा और यूपी सरकार पहले ही कर चुकी है ऐलान

भोपाल: इस समय देश में लव जिहाद को लेकर बवाल मचा हुआ है, लगातार हिंदू लड़कियां लव जिहाद का शिकार हो रही हैं इसके चलते राज्य सरकारे काफी चिंतित नजर आ रही हैं। हरियाणा के बल्‍लबगढ़ में निकिता नाम की छात्रा की दिनदहाड़े हुई हत्‍या के बाद देश में कड़ा कानून बनाने की मांग उठ रही है। मध्य प्रदेश सरकार ने राज्य में लव जिहाद के खतरे की जांच के लिए एक नया कानून लाने का संकेत दिया है। यह तीसरा भाजपा शासित राज्य है, जोकि इस तरह के कानून पर विचार कर रहा है। इससे पहले हरियाणा और यूपी सरकार ने भी कानून बनाने का एलान किया है।

भोपाल में मीडिया से बात करते हुए सीएम शिवराज सिंह चौहान ने कहा, “लव के नाम पर जिहाद की अनुमति किसी भी कीमत पर नहीं होगी और इसके लिए मध्‍य प्रदेश भी जरूरी कानूनी प्रावधान करेगा। उन्होंने आगे कहा, “कोई भी यह हरकत करेगा तो ठीक कर दिया जाएगा।”

हरियाणा और उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्रियों ने भी इस तरह की घोषणाएं की है, जिसके बाद शिवराज सिंह चौहान ने कहा, “वे कानूनी प्रावधानों पर भी विचार कर रहे हैं और हम नापाक व्यवहार के खिलाफ उचित कानूनी प्रावधानों पर भी विचार कर रहे हैं।”

Gyan Dairy

यूपी के सीएम योगी ने उपद्रवियों को तथाकथित-लव जिहाद में लिप्त होने वाले लोगों को कड़ी चेतावनी जारी की। अपनी पहचान छिपाकर लड़कियों और महिलाओं का यौन और वित्तीय शोषण के लिए फंसाने और बाद में उन्हें जबरन धर्म परिवर्तन कराया जाता है। इलाहाबाद HC ने कहा कि विवाह के लिए धार्मिक रूपांतरण आवश्यक नहीं है। योगी ने कहा, ‘लव-जिहाद पर अंकुश लगाने के लिए भी सरकार काम करेगी, हम एक कानून बनाएंगे।’ उत्तर प्रदेश के जौनपुर की बैठक में योगी ने कहा, “अगर आप हमारी बहनों के सम्मान के साथ खिलवाड़ करते हैं और अपने आप में सुधार नहीं करते हैं तो हम रामनाम सत्य यात्रा शुरू करेंगे, मैं चेतावनी देता हूं।”

हरियाणा सरकार ने भी निकिता तोमर नाम की 21 वर्षीय कॉलेज छात्रा की हत्या के बाद लव जिहाद के मामलों से निपटने के लिए एक कानून लाने पर विचार किया। हरियाणा के मुख्यमंत्री एमएल खट्टर ने कहा था कि बल्लभगढ़ हत्या को लव जिहाद से जोड़ा जा रहा है और केंद्र और राज्य सरकार दोनों इस मामले को देख रहे हैं। उन्होंने कहा कि सरकार यह सुनिश्चित करने के लिए कानूनी प्रावधानों पर विचार कर रही थी कि अपराधी बच न जाए और निर्दोष को सजा न मिले

Share