मुख्तार अंसारी के पंजाब से यूपी ट्रांसफर को लेकर सुप्रीम कोर्ट फैसला रखा सुरक्षित

नई दिल्‍ली: पूर्वांचल के सबसे बड़े माफिया मुख्तार अंसारी कई वर्षों से जेल में हैं लेकिन वो यूपी नही बल्कि पंजाब जेल में बंद हैं। लगातार यूपी सरकार मुख्तार को यूपी लाने का प्रयास कर रही है लेकिन पंजाब सरकार उसे भेजने को तैयार नही। इसी को लेकर यूपी सरकार की तरफ से सुप्रीम कोर्ट में अर्जी डाली गयी थी, मुख्तार अंसारी के पंजाब से यूपी ट्रांसफर को लेकर आज सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई हुई, जिसपर सुप्रीम कोर्ट ने अपना फैसला सुरक्षित रख लिया है। सुनवाई के दौरान पंजाब सरकार के वकील ने अदालत से कहा कि उन्हें मुख्तार से कोई लेना देना नहीं है और वो दूसरे अपराधी की तरह है।

पंजाब सरकार के वकील ने कहा कि मुख्तार पर पंजाब में उगाही का केस दर्ज है। जांच के बीच में केस को ट्रांसफर नहीं किया जा सकता है, चार्जशीट दाखिल होने के बाद मुकदमा शुरू होगा, इसमें समय लगेगा। मुख्तार अंसारी के खिलाफ पंजाब में 2019 में केस दर्ज हुआ, जबकि उत्तर प्रदेश के केस 15 साल से लंबित हैं। इसलिए मुख्तार को यूपी न भेजा जाए।

पंजाब सरकार की दलील
हमें मुख्तार से कोई लेना-देना नहीं, हमारे लिए वो दूसरे अपराधी की तरह है, पंजाब में उगाही का केस दर्ज है, मुख्तार के खिलाफ पंजाब में जांच जारी है, जांच के बीच में केस ट्रांसफर नही हो सकता, चार्जशीट दाखिल होने पर केस शुरू होगा, केस शुरू होने में समय लगेगा, पंजाब में 2019 में केस दर्ज हुआ, यूपी के केस 15 साल से लंबित हैं।

यूपी सरकार की दलील
मुख्तार के खिलाफ 30 FIR हैं, 14 मामलों में ट्रायल चल रहा है, अचानक 2019 में पंजाब में FIR हुई, पंजाब में मुख्तार का रहना असंवैधानिक, बिना कोर्ट की इजाजत पंजाब को सौंपा गया, 2019 से ही मुख्तार पंजाब की जेल में है, पंजाब में कोई चार्जशीट दाखिल नहीं हुई, अंसारी ने डिफॉल्ट जमानत भी नहीं ली, पंजाब पुलिस और मुख्तार मिले हुए हैं, न्यायिक सिस्टम को धोखा दिया जा रहा है, मुख्तार पंजाब से ही अवैध कारोबार चला रहा है, यूपी के मऊ में केस भी दर्ज किया गया है, 2005 से मुख्तार अंसारी जेल में है, यूपी में पेशी पर भी नहीं आ रहा मुख्तार, मुख्तार की बीमारी का बहाना बनाया जा रहा है।

Gyan Dairy

लगातार फंसता चला जा रहा मुख्‍तार
यूपी का बाहुबली विधायक मुख्तार अंसारी चौतरफा घिरता जा रहा है। एक तरफ प्रयागराज में मुख्तार अंसारी के दो गुर्गों को एसटीएफ की टीम ने ढेर कर दिया है। उत्तर प्रदेश के प्रयागराज में स्पेशल टास्क फोर्स को बहुत बड़ी कामयाबी मिली है। अरैल इलाके के कछार में हुई मुठभेड़ में दो अपराधियों को ढेर कर दिया गया। मारे गए अपराधियों के नाम वकील पांडेय उर्फ राजू पांडेय और अमजद उर्फ पिंटू है। दोनों उत्तर प्रदेश के कुख्यात अपराधी मुन्ना बजरंगी और मुख्तार अंसारी गैंग के शूटर थे।

बताया जा रहा है कि पिछले कुछ दिनों से मारे गए वकील पांडेय और अमजद दिलीप मिश्रा के लिए काम कर रहे थे। पुलिस के अनुसार वकील पांडेय पर 50 हजार रुपये का इनाम भी था।

वही पंजाब विधानसभा के बजट सत्र के तीसरे दिन सदन में शिरोमणि अकाली दलने मुख्तार अंसारी को पंजाब की रोपड़ जेल से उत्तर प्रदेश की जेल में ट्रांसफर नहीं करने का मुद्दा उठाया। सदन में पूर्व मंत्री और विधायक बिक्रम मजीठिया ने पंजाब सरकार पर इसको लेकर गंभीर आरोप लगाए। उन्होंने कहा कि कैप्टन सरकार एक बाहुबली और गैंगस्टर पर सरकारी पैसा खर्च कर रही है।

Share