बीमा का पैसा हड़पने के लिए शख्स ने रची चार मासूम बेटियों के जल कर मरने की कहानी

गुजरात के सूरत में एक सब्जी विक्रेता रमेश झाराखिया द्वारा दो सूअरों को मारने के बाद पुलिस से अपनी चार बेटियों के आग में जलकर मरने की बात कहकर इंश्योरेंस का पैसा ठगने का मामला सामने आया है। इस मामले की जांच कर रहे एक अधिकारी द्वारा दी गई जानकारी के अनुसार 14 मार्च को गैस लीक हो जाने के कारण माहुवा के मुदत गांव में उस जगह पर आग लग गई थी जहां पर रमेश अपनी सब्जियों को स्टोर करके रखता था। जिस समय आग लगी उस समय वह स्टोर में मौजूद नहीं था। वापस आने के बाद रमेश ने पुलिस और फायरबिग्रेड को फोन कर इसकी जानकारी दी। पुलिस अधिकारी ने बताया कि वह अपनी चार बेटी दर्शना (10), मानसी (9), तेजस्वी (8) और राजस्वी (7) को सूरत छोड़कर गया था।

रमेश ने पुलिस को बताया कि उसकी बीवी के मरने के बाद उसकी चारों बेटियां अपने नाना-नानी के पास अमरेली में रहती थीं। उसने पुलिस से कहा कि अभी कुछ दिन पहले ही उसका छोटा भाई चारों बेटियों को सूरत लेकर आया था। रमेश ने अपनी बेटियों को एक तस्वीर भी पुलिस को दी। एक पुलिस अधिकारी ने बताया कि उन्हें घटना स्थल से केवल पांच हड्डियां मिली थीं। जब पुलिस ने इस मामले में आगे जांच कि तो पुलिस को पता चला कि रमेश ने अपनी बेटियां बताकर जो फोटो उन्हें सौंपी थी वह फर्जी थी। पुलिस ने जब रमेश से पूछताछ की तो उसने अपना गुनाह कबूल कर लिया। उसने पुलिस को बताया कि उसके केवल दो बेटे हैं और उसकी कोई बेटी नहीं है। इसके साथ ही उसने यह भी कबूल किया कि उसकी बीवी जिंदा है जो कि उसके एक बेटे के साथ कमरेज में रहती है।

Gyan Dairy

एक पुलिस अधिकारी द्वारा दी गई जानकारी के अनुसार रमेश ने नया कारोबार खोलने के लिए अपने एक दोस्त से ब्याज पर एक करोड़ रुपए लिए थे जिसे वह समय पर दे नहीं पाया। इसके बाद रमेश ने झूठे कागजों के आधार पर अपनी चार बेटियां बताकर 65 लाख रुपए का इंश्योरेंस करवाया। रमेश ने बहुत ही चालाकी के साथ पुलिस को गुमराह करने की कोशिश की लेकिन वह अपने मंसूबों में कामयाब नहीं हो पाया। पुलिस ने आरोपी को गिरफ्तार कर लिया है।

Share