UA-128663252-1

यूपी उपचुनाव: BJP ने की 6 प्रत्याशियों के नाम की घोषणा ऐलान, देवरिया सीट पर सस्पेंस बरकरार

लखनऊ। यूपी में आने वाले 3 नवंबर को 7 सीटों पर होने वाले उपचुनाव को लेकर सभी पार्टियां जोर शोर से प्रचार में जुट गयी हैं, वहीं अभी तक बीजेपी ने अपने प्रत्याशियों के नाम की घोषणा ही नही की थी. लेकिन आज बीजेपी ने अपनी 6 सीटों पर प्रत्याशियों के नाम का ऐलान कर दिया है.

मंगलवार को भारतीय जनता पार्टी ने 6 प्रत्याशियों के नाम की घोषणा कर दी. बीजेपी ने पूर्व अंतरराष्ट्रीय क्रिकेटर और योगी सरकार में होमगार्ड कल्याण एवं नागरिक सुरक्षा विभाग मंत्री रहे चेतन चौहान की पत्नी को नौगांव सादात सीट से टिकट दिया है. वहीं उपेंद्र पासवान को घाटमपुर सीट से चुनाव मैदान में उतारा है. जबकि उन्नाव के बांगरमऊ सीट से श्रीकांत कटियार पर दांव लगाया है. इसी कड़ी में टुंडला से प्रेमपाल धनगर, जौनपुर की मल्हनी सीट से मनोज सिंह और बुलंदशहर से ऊषा सिरोही को प्रत्याशी घोषित किया है. आपको बता दें कि उषा सिरोही विधायक रहे वीरेंद्र सिरोही की पत्नी हैं. फिलहाल देवरिया सीट पर प्रत्याशी के नाम का ऐलान नहीं हुआ है.

बता दें कि उत्तर प्रदेश की 7 सीटों पर उपचुनाव होना है. यूपी उप चुनाव के लिए नामांकन शुरू हो गया. 16 अक्टूबर तक प्रत्याशी अपना नामांकन दाखिल कर सकते हैं. यूपी की 7 सीटों पर 3 नवंबर को उपचुनाव होंगे और 10 नवंबर को सभी सीटों के परिणाम का ऐलान कर दिया जाएगा. वहीं, इस बार 40 की जगह 30 स्टार प्रचारक ही शामिल हो सकेंगे.

Gyan Dairy

बीजेपी के लिए कड़ी चुनौती होगा उपचुनाव

गौरतलब है कि यूपी की सात सीटों पर उपचुनाव हो रहे हैं, जिसमें से छह सीटों पर सत्ताधारी बीजेपी का कब्जा रहा है. सपा के पास एक सीट है, लेकिन बीजेपी के लिए उपचुनाव किसी चुनौती से कम नहीं है. हाथरस मुद्दे को लेकर विपक्ष हावी है. सरकार को जवाब देना पड़ रहा है. जहां लगातार समाजवादी पार्टी के कार्यकर्ता सड़कों पर उतरकर सरकार के ​खिलाफ प्रदर्शन कर रहे हैं, वहीं कांग्रेस के नेताओं ने हाथरस कांड को दलित एजेंडे का रूप दिया है. विपक्ष का दावा है कि सरकार की पोल खुल गई है. विपक्षी दल लगातार कह रहे हैं कि हाथरस की घटना का असर तो पड़ेगा ही. इस घटना ने पूरे उत्तर प्रदेश को देश दुनिया के सामने शर्मसार कर दिया. बीजेपी पर लगातार आरोप लगाया जा रहा है कि जो खुद को हिंदुत्व वाली पार्टी बोलती है वो पिछड़ों और दलितों को हिंदू ही नहीं मानती है.

Share