उत्तर प्रदेश की पिछली सरकार के चहेते मलाईदार पदों पर तैनात 54 पुलिस इंस्पेक्टर हटाये गये

योगी आदित्यनाथ सरकार ने समाजवादी सरकार में   कोतवाली और थानों में  मलाईदार पदों पर तैनात  पुलिस इंस्पेक्टरों के तबादले शुरू कर दिए है। पहले चरण में 54 इंस्पेक्टरों को अपनी तैनाती से गया है लेकिन, इस सूची में पुलिस के पसंदीदा कहे जाने वाले गौतमबुद्धनगर , हापुड़ जिले के एक भी इंस्पेक्टर को नहीं हटाया गया है। गाजियाबाद, आगरा से एक-एक इंस्पेक्टर हटाये गए हैं।पुलिस अधिकारियों के कार्य क्षेत्र में बदलाव का क्रम वरिष्ठ अधिकारियों से होता हुआ इंस्पेक्टर तक पहुंच गया है।

डीजीपी मुख्यालय के अधिकारियों का कहना है कि पुलिस में अमूल चूल परिवर्तन किया जाना है। यह भी बताया गया है कि यह सूची अंतिम सूची नहीं है। हालांकि जिन 54 इंस्पेक्टरों का तबादला किया गया है, उनमें से नौ को सीबीसीआईडी, 16 को सतर्कता अधिष्ठान, दो पीटीएस, एक को आतंकवाद निरोधक दस्ते में स्थानांतरित कर तैनात किया गया है। दो इंस्पेक्टर आर्थिक अपराध शाखा में भेजे गए है। 12 इंस्पेक्टर का जोन बदला गया है।घुड़सवार पुलिस की डीपीसी आज पुलिस भर्ती एवं प्रोन्नति बोर्ड ने घुड़सवार पुलिस के मुख्य आरक्षी(दीवान) पद के लिए रिक्त 18 स्थनों के लिए जिलों से भेजे गए 23 नामों को अनुपयुक्त माना है। ज्येष्ठता के आधार पर पदोन्नति के लिए 24 मई यानी बुद्धवार को विभागीय प्रोन्नति कमेटी(डीपीसी) की बैठक का निर्णय लिया है।

Gyan Dairy

मंगलवार को डीजीपी मुख्यालय में 54 इंस्पेक्टरों के तबादले की पहली सूची जारी की थी। इसमें अधिकतर उन निरीक्षेकों के नाम हैं, जिन्हें समाजवादी सरकार में महत्वपूर्ण कोतवालियों का प्रभार मिला हुआ था। बावजूद इसके पहली सूची में हापूड़, गौतमबुद्धनगर में बरसों से जमे इंस्पेक्टरें का नाम नहीं है। गाजियाबाद व आगरा से एक-एक इंस्पेक्टर हटाया गया है। यह आम धारणा है कि इन जिलों में तैनाती के लिए इंस्पेक्टर शीर्ष स्तर तक की पैरवी कराने में पीछे नहीं रहते हैं।

Share