लखनऊ : 700 साल पुरानी भगवान पार्श्वनाथ की अष्टधातु की मूर्ति के साथ 7 तस्कर गिरफ्तार

लखनऊ। लखनऊ कमिश्नरेट पुलिस ने आज यानी सोमवार को 7 तस्कर अष्टधातु के मूर्ति के साथ गिरफ्तार किए गये। बताया ​गया कि ये तस्कर भगवान पार्श्वनाथ की बेशकीमती अष्टधातु की ​मूर्ति बाहर से आने वाले व्यापारियों के हाथ बेंचना चाहते थे। इसकी कीमत अंतरराष्ट्रीय बाजार में करीब एक करोड़ रूपये आंकी जा रही है। पुलिस का दावा है कि मूर्ति भगवान पार्श्वनाथ है। ये करीब 700 साल पुरानी की बेशकीमती अष्टधातु की मूर्ति है। तस्कर ये बेशकीमती मूर्ति दूसरे देश में बेचने की फिराक में थे।

एसीपी कृष्णानगर स्वतंत्र कुमार सिंह ने बताया कि बरामद की गई मूर्ति की कीमत अन्तर्राष्ट्रीय बाजार में काफी ज्यादा है। तस्कर इस मूर्ति को दूसरे देश भेजने की फिराक में थे। यह मूर्ति जैन धर्म के 23वें तीर्थकर भगवान पार्श्वनाथ की है। मूर्ति लगभग 700 साल पुरानी बताई जा रही है। मूर्ति का वजन 2 किलो 934 ग्राम है।जिसकी कीमत लगभग एक करोड़ रूपए आंकी जा रही है।

पुलिस का दावा है कि तस्कर सोमवार को बाहर से आने वाले व्यापारियों को मूर्ति बेचने वाले थे। इसी बीच पुलिस को इसकी जानकारी मिल गयी। पुलिस ने घेराबंदी करके नादरगंज नहर के पुल के पास से 7 तस्करों को धर दबोचा। तलाशी के दौरान उनके पास से अष्टधातु की मूर्ति बरामद हुई। वहीं पुलिस इन तस्करों को रिमांड पर लेकर अन्य तस्करों के बारे में पता लगाना चाहती है।

Gyan Dairy

पकड़े गये तस्करों में सुनील कटियारी कन्नौज, राजू सिंह हमीरपुर, राजकुमार निषाद हमीरपुर, शिव कुमार खगार महोबा, सलमान शाह हमीरपुर, विनोद कुमार गुप्ता महोबा जबकि मो अफजल सम्भल का रहने वाला है। बताया गया कि राजू सिंह हमीरपुर में कई बार लूट, हत्या के प्रयास, अवैध हथियार रखने, एनडीपीएस ऐक्ट, धोखाधड़ी जैसे मामलो में जेल जा चुका है वहीं दूसरी तरफ सलमान शाह उन्नाव, कानपुर व फतेहपुर में लूट, डकैती जैसे मामलों में जेल जा चुका है।

Share