कोटा के बाद अब प्रयागराज में फंसे छात्रों को उनके घर पहुंचाएगी योगी सरकार

लखनऊ। कोटा (राजस्थान) के हजारों छात्रों को उनके घरों तक पहुंचाने के बाद अब उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ प्रयागराज में पढ़ाई कर रहे छात्रों को उनके घर पहुंचाने का आदेश दिया हैं। मुख्यमंत्री योगी ने प्रयागराज में प्रदेश के अन्य जिलों के रहने वाले छात्रों को उनके गृह जनपद पहुंचाने का आदेश जारी किया है। जिसके बाद अब करीब 10 हजार छात्रों को 300 बसों से उनके गृह जनपद तक पहुंचाया जाएगा।

साथ ही प्रदेश में स्वास्थ्य सेवाओं को मजबूत करने के लिए हर जिले में 15,000 से 25,000 क्षमता वाले क्वारंटीन सेंटरों के निर्माण का भी निर्देश मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने दिया है। इस बात की जानकारी प्रदेश के अपर मुख्य सचिव गृह अवनीश कुमार अवस्थी ने लोकभवन में मीडिया को संबोधित करते हुए दी।

अपर मुख्य सचिव गृह ने इस बारे में बताते हुए कहा कि, मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सोमवार को टीम-11 के वरिष्ठ अधिकारियों के साथ प्रदेश में लॉकडाउन की समीक्षा की। उन्होंने बताया कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के निर्देश के बाद हरियाणा से अब तक 12,200 श्रमिकों को यूपी लाया गया है। इस कार्य के लिए 328 बसों को लगाया गया है। 26 अप्रैल को प्रदेश के चार बॉर्डर पर 9992 श्रमिकों को लाया गया। जिसमें सहारनपुर के बॉर्डर पर 74, शामली के बॉर्डर पर 55 इसी तरह बागपत के बॉर्डर पर 47, मथुरा के बॉर्डर पर 63 और बुलंदशहर के बॉर्डर पर 89 बसें हरियाणा से श्रमिकों को लेकर पहुंची हैं। इसके पहले 25 अप्रैल को 2224 श्रमिकों को लाया गया था।

Gyan Dairy

उन्होंने बताया कि आने वाले सभी श्रमिकों की मेडिकल जांच करा ली गई है। इसके बाद भी उन्हें 349 बसों के माध्यम से अपने-अपने जिले के क्वारंटीन सेंटर में भेजा गया है जहां उन्हें 14 दिनों तक रहना होगा।

बता दें कि इस प्रक्रिया के पहले चरण में सोनभद्र, चंदौली, वाराणसी, जौनपुर, प्रतापगढ़, कौशांबी, फतेहपुर और चित्रकूट के छात्रों को भेजने का निर्देश दिया गया है। इसके बाद दूसरे चरण में इन्हीं बसों से अन्य जनपद में छात्रों को भेजा जाएगा। छात्र-छात्राओं की अलग-अलग व्यवस्था की गई है। अधिकारियों को निर्देश दिया है कि हर छात्र का पूरा ब्यौरा रखा जाए।

Share